ads

युवाओं के लिए रोल मॉडल बनाना चाहते हैं 92 साल के बुजुर्ग

नई दिल्ली। टीसीएस विश्व 10 किलोमीटर बेंगलुरू-2020 मैराथन में 92 साल के वृद्ध एन.एस. दत्तात्रेय ( old runner NS Dattatreya ) हिस्सा लेने को तैयार हैं। यह मैराथन रविवार को आयोजित की जाएगी। जनवरी 2019 से मैराथन और वॉकाथन में रुचि लेने वाले दत्तात्रेय (Dattatreya) ने इस तरह की 90 रेसों में हिस्सा लिया है। इतने कम समय में रिटायर्ड बैंक मैनेजर 42 वर्चुअल और 48 वास्तविक रेसों में हिस्सा ले चुके हैं, जिसमें 21वीं एशिया मास्टर्स एथलेटिक चैम्पयिनशिप ( Asia Masters Athletics Championship ) भी शामिल है जहां उन्होंने अलग-अलग श्रेणी में पांच स्वर्ण जीते थे।

कोहली, रहाणे के विकेट ने आस्ट्रेलिया को एडवांटेज दे दिया : पुजारा

रनिंग के प्रति उनके इस जुनून ने कई लोगों को प्रेरित किया है। उनमें से एक हैं कुलदीप सिंह जाधव (Kuldip Singh Jadav) जो वडोदरा में रियल इस्टेट कंपनी में सीनियर एक्जीक्यूटिव के पद पर थे। उनका एक साल पहले बेंगलुरू ट्रांसफर हुआ है। दत्तात्रेय के साथ रनिंग करने से उनका अनुभव जिंदगी बदलने वाला साबित हुआ।

बड़ी खुशखबरी! Yuvraj Singh सिंह फिर लगाएंगे चौके और छक्के, इस टीम से करेंगे वापसी

40 साल के जाधव ने एक बयान में कहा, ईमानदारी से कहूं तो दत्तात्रेय अंकल ने मेरी जिंदगी बदल दी। मैं 2019 में पहली बार उनसे मिला था और मैं इस बात से हैरान रह गया था कि 91 की उम्र में यह इंसान कैसे मैराथन में दौड़ सकता है। सिर्फ यही नहीं, बल्कि मैंने पांच किलोमीटर रेस में हिस्सा लिया और वहां उन्होंने 10 किलोमीटर रेस में। तब मुझे लगा कि जब 91 साल का इंसान यह कर सकता है तो मैं क्यूं नहीं कर सकता। तब से मैं रनिंग और साइकिलिंग इवेंट में हिस्सा ले रहा हूं।

Video: मैदान पर कप्तान को आया गुस्सा तो साथी खिलाड़ी को की थप्पड़ मारने की कोशिश, जाने फिर क्या हुआ

जाधव 45-50 रेसों और साइकिलिइंग इवेंट में हिस्सा ले चुके हैं। उन्होंने रनिंग को अपना रूटीन बना लिया है। दत्तात्रेय इस बात से खुश हैं कि वह किसी कि प्ररेणा हैं और वह युवाओं के लिए रोल मॉडल बनना चाहते हैं।

उन्होंने कहा, मैं कुलदीप को जानता हूं और हम कुछ रनिंग ग्रुप का हिस्सा हैं। किसी की प्ररेणा बनना काफी अच्छा लगता है। मैं युवाओं के लिए रोल मॉडल बनना चाहता हूं। मैं ज्यादा से ज्यादा युवाओं को प्रेरित करना चाहता हूं, जो हमेशा वर्चुअल दुनिया में खोए रहते हैं।

फिंच ने अपनी टीम के साथियों को दी सलाह, कोहली को परेशान ना करें

उन्होंने कहा, मेरे लिए स्वास्थ की संपदा है। मैं अपनी फिटनेस को सही बनाए रखने के लिए दौड़ता हूं। मैं युवाओं को यह सलाह देता हूं कि वह भी यही करें। उन्हें महसूस करना चाहिए कि वर्चुअल दुनिया के अलावा भी एक दुनिया है।



Source युवाओं के लिए रोल मॉडल बनाना चाहते हैं 92 साल के बुजुर्ग
https://ift.tt/3pe9oAj

Post a Comment

0 Comments