ads

आज 'दत्तात्रेय जयंती' पर करें ये उपाय, दूर होगी बड़ी से बड़ी समस्या

हिंदू धर्म के अनुसार मार्गशीर्ष माह के शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा को भगवान दत्तात्रेय प्रकट हुए थे। ऐसी मान्यता है कि आज के दिन उनके बाल स्वरूप की पूजा करने से मनुष्य की सभी मनोकामनाएं पूर्ण होती हैं।

भगवान दत्तात्रेय नाथ संप्रदाय के इष्टदेव हैं, शैव संप्रदाय से जुडे भक्त इन्हें शिव का रूप मानते हैं तो वैष्णव संप्रदाय से जुड़े लोग इन्हें भगवान विष्णु का ही अवतार मानते हैं। तांत्रिकों के अनुसार दत्तात्रेय भगवान ब्रह्मा, विष्णु तथा शिव तीनों का ही संयुक्त अवतार हैं।

2021 में शनि-गुरु की युति इन राशि वालों को बना देगी करोड़पति, प्रेम संबंधों में भी मिलेगी सफलता

आज का पंचांग - आर्टिस्ट, पेंटर, सिविल—इलेक्ट्रिक—मैकेनिकल या इलेक्ट्रोनिक्स इंजीनियरिंग, सर्जन, क्लर्क आदि से जुड़े कार्य सफल होने का दिन

दत्तात्रेय जयंती पर इन उपायों को करने से मिलेगी सफलता
अगर आप अपनी जीवन में बहुत अधिक परेशान हैं और आपकी समस्या हल नहीं हो पा रही हैं तो आज पूरे दिन में कभी भी आप इन उपायों को कर सकते हैं। इन उपायों को करते ही आपको अपनी पीड़ा में राहत अनुभव होगी और आपकी समस्या स्वतः ही समाप्त हो जाएगी।

ॐ दिगंबराय विद्महे योगीश्रारय् धीमही तन्नो दत: प्रचोदयात'

आप स्नान आदि से निवृत्त होकर स्वच्छ व धुले हुए कपड़े पहन कर अपने घर के पूजाकक्ष अथवा शिव मंदिर में जाकर आसन पर बैठें। गणेशजी सहित अपने इष्टदेव, गुरुदेव व भगवान शिव और मां पार्वती का ध्यान करें। इसके बाद नीचे दिए गए दत्तात्रेय गायत्री मंत्र का 108 बार जप करें। जप के बाद उनसे अपने संकट दूर करने की प्रार्थना करें और अपनी यथाशक्ति पशु, पक्षियों को भोजन करवाएं।

जब तक आपकी समस्या पूर्ण रूप से खत्म नहीं हो जाएं तब तक आप इस प्रयोग को करते रहें। कुछ ही दिनों में आपकी समस्या पूरी तरह से समाप्त हो जाएगी और सौभाग्य जाग उठेगा।



Source आज 'दत्तात्रेय जयंती' पर करें ये उपाय, दूर होगी बड़ी से बड़ी समस्या
https://ift.tt/2KIUpQ3

Post a Comment

0 Comments