ads

Mercury Transit in Sagittarius : बुध का धनु में प्रवेश, इन राशियों के लिए रहेगा शुभ, होगा लाभ

ज्योतिष शास्त्र में बुध ग्रह, सूर्य और शुक्र के सबसे करीब रहता है, इसलिए इन दोनों ग्रहों के साथ बुध शुभ फल प्रदान करता है। ऐसे में 17 दिसंबर 2020, गुरुवार को बुध ग्रह 11:26 बजे धनु राशि में चले गए हैं।

इससे पहले पंचांग के अनुसार 28 नवंबर को प्रातरू 6 बजकर 53 मिनट पर बुध ने वृश्चिक राशि में गोचर किया था। इस परिवर्तन के साथ ही बुध जहां पहुंचे हैं वह राशि में नवम स्थान पर मौजूद धनु राशि है, जिसे अग्नि तत्व की राशि मानी जाती है। इस राशि में बुध का प्रवेश सभी राशियों पर प्रभाव डालेगा और विशेषकर कुछ राशियों पर शुभ प्रभाव देखने को मिलेंगे।

वैदिक ज्योतिष में बुध ग्रह को एक तटस्थ ग्रह माना गया है। वहीं इसे संचार, व्यापार की समझए विश्लेषण और अवलोकन का ग्रह भी माना जाता है। बुध का लाभकारी होना इस बात पर निर्भर करता है कि वह आपकी कुंडली में किस ग्रह के साथ मौजूद है। अच्छे ग्रह के साथ मौजूद होने पर बुध लाभकारी परिणाम देता है। जबकि दुष्ट ग्रहों की संगत में इनका फल भी वैसा ही होता है।

राशियों पर असर: बुधादित्य योग का इन्हें मिलेगा लाभः
बुध ग्रह का बदलाव ऐसे समय में हो रहा है जब कुछ ही दिनों में नए साल का आरंभ होने जा रहा है। बुध की स्थिति में बदलाव होने से सभी जातकों के करियरए रुपये.पैसे और मान-सम्मान की स्थिति में बदलाव हो सकता है।

1. मेष राशि:

गोचर के वक्त बुध आपकी कुंडली के नवें भाव में प्रवेश करेंगे। यह भाव भाग्य का स्थान माना जाता है और इस भाव से लंबी दूरी की यात्राएं गुरुए तीर्थ स्थानए मान सम्मान और समाज में आपकी स्थिति को देखा जाता है। गोचर के प्रभाव से इन सभी क्षेत्रों में आपको समस्या का सामना करना पड़ सकता है। यात्रा में आपको परेशानी का सामना करना पड़ सकता है।

2. वृषभ राशिः

वृषभ राशि का स्वामी शुक्र और बुध को परम मित्र माना जाता है।गोचर के वक्त यह आपकी कुंडली के आठवें भाव में प्रवेश करेंगे। अष्टम भाव को जीवन में अचानक से होने वाली घटना के लिए जाना जाता है। गोचर के प्रभाव से आपके जीवन में कोई अप्रिय घटना का सामना करना पड़ सकता है और किसी चुनौती को झेलना पड़ सकता है। आपकी राशि में भी धन हानि के भी योग बन रहे हैं। वहीं संतान के मामले में यह गोचर अच्छा होगा। आपको कोई शुभ समाचार सुनने को मिल सकता है।

3. मिथुन राशि:

बुध आपकी राशि के स्वामी हैं, इसलिए बुध का गोचर आपके लिए मायने रखता है। बुध आपके प्रथम स्थान के साथ.साथ आपके चतुर्थ स्थान के भी स्वामी हैं। इस गोचर काल में वह आपकी राशि के सातवें भाव में प्रवेश करेंगे। सातवां भाव साझेदारी] विवाह और व्यापार को दर्शाता है।

राशि का यही भाव आयात और निर्यात को दर्शाता है। बुध का गोचर सप्तम भाव में होने से आपको व्यापार में उत्तम लाभ की प्राप्ति होती है और आपके व्यापार में विस्तार होगा। इस वक्त में आप अपने व्यापार में को बढ़ा सकते हैं। कुछ नए प्रॉजेक्ट पर काम शुरू कर सकते हैं।

4. कर्क राशि:
आपकी राशि के लोगों के बुध तीसरे और 12वें भाव के स्वामी हैं। बुध का गोचर आपकी राशि के छठें भाव में होगा। छठे भाव को अशुभ भाव माना जाता है क्योंकि यह शत्रु, विरोधी, कंपटीशन, प्रतियोगिता, चुनाव, बीमारियों, शारीरिक कष्ट, कर्ज और संघर्ष का भाव माना जाता है।

इस भाव में बुध के गोचर करने से आपके खर्चों में वृद्धि होगी और आपको कार्यक्षेत्र में भी परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। आर्थिक स्थिति पर प्रश्न चिन्ह लगा सकते हैं और आपको पैसे की कमी का सामना करना पड़ सकता है।

5. सिंह राशि

गोचर के वक्त बुध आपके 5वें भाव में प्रवेश करेंगे। पांचवां भाव हमारी बुद्धिए विवेकए हमारी कलात्मकताए हमारे प्रेम संबंधों को बताता है। गोचर का प्रभाव आपके लिए शुभ माना जा रहा है। आपकी आमदनी में इस बीच इजाफा हो सकता है और आपके व्यापार में भी तेजी आ सकती है। आपको अन्य स्रोतों से भी धन प्राप्त होगा और आप इस बीच किसी नई डील पर भी साइन कर सकते हैं। जो कि आपको भविष्य में लाभ देगी।

6. कन्या राशि
बुध ग्रह आपकी राशि के भी स्वामी हैं, ऐसे में बुध का गोचर विशेष रूप से महत्वपूर्ण साबित हो सकता है। बुध आपकी राशि के पहले और दसवें भाव के स्वामी माने जाते हैं। गोचर के प्रभाव से सभी क्षेत्रों में आपको सफलता प्राप्त होगी। प्रथम भाव आपके स्वास्थ्यए आपकी सोचए आपका शारीरिक रूप रंगए गठन और चरित्र के बारे में बताता है तो दशम भाव आपकी आजीविका और कार्य व्यवसाय तथा कर्म की गति को दर्शाता है। गोचर के वक्त बुध आपकी राशि के चौथे भाव में प्रवेश करेंगे। इस भाव से जातक की माता के स्वास्थ्य और अन्य भौतिक सुखों का पता चलता है।

7. तुला राशिः

आपकी राशि के तीसरे भाव में बुध का गोचर हो रहा है। माना जा रहा है कि आपको इस गोचर का सबसे शुभ प्रभाव मिलेगा। गोचर से आपके आत्मविश्वास में वृद्धि होगी और आपके काम में तेजी आएगी।

 

8. वृश्चिक राशि:
गोचर के वक्त बुध आपकी राशि के दूसरे भाव में प्रवेश करेंगे। इस भाव में गोचर होने से आपकी आमदनी में बढ़त देखने को मिल सकती है। परिवार में भी आपकी स्थिति मजबूत होगी। परिवार में कुछ नए कार्य का आयोजन हो सकता है। आपके मान सम्मान में इजाफा होगा। दूसरे भाव को धन और वाणी का भाव माना जाता है। इस भाव से आपके कुटुंब के बारे में पता चलता है और आपके धन, खानपान और मान सम्मान को भी दर्शाता है।

9. धनु राशि:

बुध का गोचर आपकी राशि में ही होने जा रहा है जो कि आपके पहले भाव में होगा। गोचर के प्रभाव से आपको सभी मामलों में सफलता प्राप्त होगी। प्रथम भाव में गोचर होने से आपका तनाव कम होगा और आप पहले से अधिक आराम में महसूस करेंगे। बुध आपकी कुंडली के सातवें और दसवें भाव का स्वामी माना जाता है। सातवां भाव साझेदारी, विवाह और व्यवसाय को दर्शाता है। प्रथम भाव का संबंध विशेष रूप से आपका व्यक्तित्व, शारीरिक रंग.रूपए गठन तथा समाज में आपका क्या चेहरा है, यह सब जानने में मदद करता है।

10 मकर राशिः
बुध का गोचर आपकी राशि के 12वें भाव में होगा। 12वें भाव को हानि और व्यय का भाव माना जाता है। इस गोचर से यह आपके खर्च में वृद्धि होगी और आपको अस्पताल में भी भर्ती होना पड़ सकता है। बुध आपकी राशि के 6वें और 9वें भाव के स्वामी माने जाते हैं। यह ग्रह बीमारीए संघर्ष और कर्ज को दर्शाता है। वहीं नवम भाव को भाग्य का स्थान माना जाता है। इसी भाव को धर्म का स्थान भी माना जाता है। इस भाव से आपके गुरुजनों ओर इष्ट देवता का भी पता चलता है।

11. कुंभ राशि:
आपकी राशि के एकादश भाव में बुध का गोचर होने जा रहा है। 11वां भाव लाभ और आमदनी को दर्शाता है। गोचर के प्रभाव से आपको लाभ हो सकता है। पकी आर्थिक स्थिति मजबूत होती चली जाएगी। आप अपनी बुद्धि का पूरा इस्तेमाल करेंगे और इस समय में अपने चारों ओर लाभ ही लाभ आपको मिलेगा। यह आपकी राशि के लिए पांचवें और आठवें के स्वामी हैं। माना जा रहा है कि बुध का यह गोचर आपके लिए मिश्रित परिणाम लाने वाला होगा।

12. मीन राशिः
आपकी राशि के दसवें भाव में बुध का गोचर होगा। गोचर से आपके आत्मविश्वास में वृद्धि होगी और आप पहले से अधिक परिपक्व महसूस करेंगे। इस भाव से आपके व्यवसाय का भी आकलन किया जा सकता है। आपके लिए अवसरों में वृद्धि होगी। आपके पद में वृद्धि हो सकती है। बुध आपकी राशि के चौथे और सातवें भाव के स्वामी माने जाते हैं। चौथा भाव सुख और सातवां भाव पाटर्नरशिप का भाव माना जाता है।



Source Mercury Transit in Sagittarius : बुध का धनु में प्रवेश, इन राशियों के लिए रहेगा शुभ, होगा लाभ
https://ift.tt/37waX6q

Post a Comment

0 Comments