ads

Sankashti Chaturthi 2021: संकष्टी चतुर्थी की पूजा विधि और शुभ मुहूर्त, व्रत करने से दूर होती हैं सभी बाधाएं

धार्मिक मान्यताओ के अनुसार, पौष मास के कृष्ण पक्ष की चतुर्थी तिथि को संकष्टी चतुर्थी व्रत (Sankashti Chaturthi Vrat 2021) रखा जाता है। संकष्टी चतुर्थी व्रत का हिंदू धर्म में विशेष महत्व है। संकष्टी चतुर्थी व्रत इस बार 2 जनवरी 2021 दिन शनिवार को रखा जाएगा। मान्यता है कि इस दिन भगवान गणेश (Lord Ganesha) की विधि-विधान से पूजा करने से व्रती की सभी मनोकामनाएं पूर्ण होती हैं और बिगड़े काम बन जाते हैं। गणेश चतुर्थी व्रत भगवान गणेशजी को समर्पित है।

संकष्टी चतुर्थी का शुभ-मुहूर्त
Sankashti Chaturthi 2021 Shubh Muhurat: संकष्टी चतुर्थी व्रत 02 जनवरी 2021 को रखा जाएगा। संकष्टी चतुर्थी व्रत (Sankashti Chaturthi Vrat) पर सुबह और शाम को पूजा की जाती है। शनिवार को सुबह की पूजा का आरंभ सुबह 05 बजकर 24 मिनट से होगा और 06 बजकर 21 मिनट पर समाप्ति होगी। शाम की पूजा का आरंभ शाम 05 बजकर 35 मिनट से होगा और 06 बजकर 57 मिनट पर समाप्ति होगी।

यह भी पढ़े :— कर्ज से है परेशन तो करे यह खास उपाय, कभी नहीं लेना पड़ेगा उधार

संकष्टी चतुर्थी व्रत का महत्व
Sankashti Chaturthi 2021 Significance : धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, इस दिन जो जातक सच्चे मन से व्रत रखता है और भगवान गणेश की पूरे विधि-विधान से उपासना करता है उसके ऊपर प्रभु की कृपा बरसती है। माना जाता है कि इस संकष्टी चतुर्थी का व्रत रखने वाले जातक को गणेश भगवान सभी मुसीबतों से बाहर निकालते हैं और सभी मनोकामनाएं पूर्ण करते हैं। माना जाता है कि संकष्टी चतुर्थी व्रत रखने से विवाद संबंधी दोष भी दूर होते हैं।

संकष्टी चतुर्थी व्रत पूजा विधि
Sankashti Chaturthi 2021 Puja Vidhi : चतुर्थी व्रत के दिन सुबह सूर्योदय से पहले उठकर स्नान आदि करके साफ कपड़े पहन लें। उसके बाद एक चौकी पर साफ़ पीला कपड़ा बिछाकर उस पर गणेश भगवान की मूर्ति रखें। अब गंगा जल छिड़ककर पूरे स्थान सहित स्वयं भी पवित्र हो लें। गणेश भगवान के सामने धूप-दीप और अगरबत्ती आदि जलाकर रख दें। गणेश भगवान को पीले-फूल की माला अर्पित करें। गणेश भगवान को दूर्वा बहुत पसंद है, संभव हो तो उसे भी उन्हें अर्पित करें। फिर गणेश चालीसा, गणेश स्तुति का पाठ करें। साथ ही गणेश भगवान का जाप करें।



Source Sankashti Chaturthi 2021: संकष्टी चतुर्थी की पूजा विधि और शुभ मुहूर्त, व्रत करने से दूर होती हैं सभी बाधाएं
https://ift.tt/38PFiwk

Post a Comment

0 Comments