ads

शनिदेव की क्रूर दृष्टि से बचने के लिए करें ये खास उपाय

ज्‍योत‍िष शास्‍त्र के अनुसार, शनिवार शनि देव को समर्पित है। इस दिन शनिदेव का खास तरह से पूजा करने पर व्यक्ति के सभी कष्ट दूर हो जाते है। शनि देव को सभी ग्रहों में धीमी गति से चलने वाला माना जाता है। इसी कारण शनि की दशा, राशि परिवर्तन से पहले ही शनि के अशुभ प्रभाव को दूर करने का प्रयास शुरू कर देना चाहिए। शनिदेव के राशि परिवर्तन से पहले ही कुछ उपाय टोटके शुरु कर देना चाहिए। शनिदेव अपनी क्रूर दृष्टि से लोगों का जीना दुश्वार कर देते हैं यह तो सभी जानते हैं। लेकिन कभी कोई उन्हें इस दृष्टि से नहीं देखता कि वे पापियों को भी सजा देते हैं।

शनि कर्मफल दाता
ज्योतिष के नजरिये से शनि कर्मफल दाता हैं, वे अच्छे को अच्छा समय और बुरा करने वाले को दंड देने में समय नहीं लगाते हैं। यही कारण है कि लोग शनिदेव से इतना डरते हैं। क्योंकि उनकी क्रूर दृष्टि से कोई भी पापी व्यक्ति बच नहीं सकता। शनि को प्रसन्न करने का सबसे सरल तरीका है हनुमान चालीसा का पाठ। ज्योतिष शास्त्र की मानें तो यह शनि की बुरी दृष्टि से बचने का सबसे सरलतम किंतु स्बासे ज्यादा प्रभावशाली उपाय है।

लोहे का सामान ना खरीदे
ऐसा कहा जाता है कि शनिवार को लोहे का बना सामान नहीं खरीदना चाहिए। माना जाता है कि शनिवार को लोहे का सामान खरीदने से शन‍िदेव नाराज हो जाते हैं। लेक‍िन इस दिन लोहे से बनी चीजों के दान का विशेष महत्व है। क्‍योंक‍ि शन‍िदेव की कोप दृष्टि निर्मल होती है। लेकिन अगर खरीदारी की जाए तो तमाम द‍िक्‍कतों का सामना करना पड़ता है।

यह भी पढ़े :— 200 से भी ज्यादा शेरों के साथ रहता है ये परिवार, जीता है ऐसी जिंदगी

 


पीपल की पूजा
शास्त्रों के अनुसार, शनिवार के दिन पीपल के पेड़ की पूजा करने से शनिदेव खुश होते है। वह पूजा करने वाले जातक को कभी नहीं सताते है। क्योंकि एक कथा के मुताबिक शनि देव ने पिप्लाद ऋषि को वरदान दिया था कि जो भी जातक पीपल को पूजेगा उसे कभी नहीं सताएंगे। इसीलिए शनिवार को पीपल के पेड़ की पूजा की जाती है।

इन चीजों का रखें खास ध्यान
यह बात हम सभी जानते है कि शनिदेव को तामसिक भोजन पसंद नहीं है। इसलिए इस दौरान आप कुछ चीजों से दूर रहें तो बेहतर होगा। जैसे मदिरा, मांस, गुटखा इन सब चीजों से दूर रहें। इनके संपर्क में आने से शनिदेव नाराज हो जाते है।

इन चीजों का करें दान
यदि आप पर भी शनि की साढ़ेसाती और ढैय्या लगने वाली है तो शनिवार को शनिदेव को गुड़ और चने के साथ पूजा करें और प्रसाद को स्वयं ना खाये, बाकी दूसरों में बांट दें। इसके अलावा शनि के गोचरकाल में काला जूता, काला कंबल, काले तिल, उड़द की दाल और खिचड़ी बांटें। इस चीजों का दान करने से शनि का प्रभाव कम होता है।



Source शनिदेव की क्रूर दृष्टि से बचने के लिए करें ये खास उपाय
https://ift.tt/2XM2436

Post a Comment

0 Comments