ads

होली भाई दूज 2021: जानें शुभ मुहूर्त व क्या करें और क्या न करें

भाई और बहन के प्रेम के खूबसूरत बंधन को दर्शाता एक बेहद ही खूबसूरत त्यौहार है भाई दूज। जो साल में दो बार मनाया जाता है। एक दिवाली के बाद और दूसरा होली के बाद। हिंदू पंचांग के अनुसार फाल्गुन मास की कृष्ण पक्ष की द्वितीया तिथि को भाई दूज या भ्राता द्वितीय के नाम से जाना जाता है। इस वर्ष भाई दूज का यह त्यौहार 30 मार्च यानी होली के ठीक अगले दिन मंगलवार को मनाया जाएगा।

दरअसल हर वर्ष भाई दूज का पर्व होली के अगले दिन होता है। होली का त्योहार चैत्र मास के कृष्ण पक्ष की प्रतिपदा को होता है। इस वर्ष होली भाई दूज आज 30 मार्च दिन मंगलवार को है।

इस दिन बहनें भाइयों को तिलक करती हैं और उनके सुखद एवं निरोगी जीवन की कामना करती हैं, वहीं, भाई अपनी बहनों को उपहार देते हैं और उनकी रक्षा का वचन देते हैं। होली भाई दूज का पर्व बहनों और भाई के बीच प्रेम का पर्व है।

भाई दूज के दिन बहनें अपने भाई को तिलक लगाकर उनकी लंबी आयु की कामना के लिए पूजा और व्रत करती हैं और इसके बदले में भाई अपनी बहन को तोहफा देकर जीवन भर उसकी रक्षा करने का वचन देता है।

भाई दूज के इस त्यौहार का यही महत्व होता है कि, इस दिन जहां बहन अपने भाई की लंबी उम्र की कामना करती है वहीं भाई हमेशा अपनी बहन की रक्षा करने का वचन देते हैं। कहा जाता है कि होली के ठीक अगले दिन बहनें आपके भाई को तिलक करके उनके जीवन से सभी कष्टों और परेशानियों को मुक्त करने की कामना करती हैं।

होली भाई दूज शुभ मुहूर्त-

द्वितीया तिथि प्रारम्भ – मार्च 29, 2021 को 08 बजकर 54 मिनट (रात) बजे
द्वितीया तिथि समाप्त – मार्च 30, 2021 को 05 बजकर 27 मिनट (शाम) बजे

आज के मुहूर्त...
अभिजित मुहूर्त- 11:48 AM से 12:38 PM तक।
विजय मुहूर्त- 02:17 PM से 03:06 PM तक।
गोधूलि मुहूर्त 06:12 PM से 06:36 PM तक।
अमृत काल 06:41 AM से 08:06 AM तक।
द्विपुष्कर योग- 06:02 AM से 12:22 PM तक।

होली भाई दूज की पूजा विधि : क्या करें व क्या न करें...
आज के दिन बहनें स्नान आदि से निवृत्त होकर स्वच्छ वस्त्र धारण कर लें। इसके पश्चात अपने भाई को भोजन के लिए संदेशा भेज दें। भाई के आगमन पर उनका स्वागत सत्कार करें। फिर उनको एक आसन पर बैठा दें।

इसके बाद उनके माथे पर तिलक लगाएं और उनका मुंह मीठा कराएं। ईश्वर से उनके दीर्घ, आरोय और सुखी जीवन की कामना करें। उनकी आरती उतारकर उनके पसंद का भोजन कराएं। वहीं, भाई अपनी बहन को उपहार दें और उनकी रक्षा का प्रण लें।

यदि आप भी भाई दूज के इस खूबसूरत त्यौहार को मनाने जा रही है तो उससे पहले जान लीजिए कि, भाई दूज के दिन क्या काम हमें भूल से भी नहीं करना चाहिए अन्यथा इससे भाइयों को नुकसान उठाना पड़ सकता है।

: यदि आपकी बहन है और आप भाई दूज का पर्व मनाते हैं तो कभी भी भाइयों को अपने घर पर भोजन नहीं करना चाहिए, इस दिन का भोजन हमेशा अपनी बहन के घर जाकर ही करें।

हालांकि यदि आपकी भी परिस्थिति वश अपनी बहन से मिलने नहीं जा सकते या उनके साथ भोजन नहीं कर सकते हैं तो कोशिश करें और गाय के नजदीक बैठकर इस दिन भोजन करें। इसके अलावा अपनी बहन या भाई के साथ झगड़ा बिल्कुल भी ना करें।

: भाई दूज के दिन अपनी बहन द्वारा बनाए गए भोजन का गलती से भी अपमान न करें। अन्यथा जीवन में तमाम तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। ठीक इसी तरह बहनों को भी अपने भाई द्वारा दिया गया तोहफे का अनादर नहीं करना चाहिए।

: भाई दूज के दिन आपकी बहन से किसी भी प्रकार का झूठ ना बोलें।

: भाई दूज के दिन तामसिक भोजन यानी मांस मदिरा इत्यादि का सेवन करने से बचें अन्यथा यम देवता क्रोधित हो जाते हैं।

: भाई दूज के दिन जो बहनें अपने भाइयों का तिलक करती हैं उन्हें तिलक से पहले कुछ भी भोजन नहीं करना चाहिए। तिलक लगाने के बाद भाई को कुछ मीठा अवश्य खिलाएं।


होली दूज का धार्मिक महत्व
जिस प्रकार से दीपावली के एक दिन बाद भाई दूज मनाकर भाई की लंबी उम्र के लिए कामना की जाती है और उसी प्रकार होली के बाद दूसरे दिन भाई का तिलक करके बहनें भाई दूज मनाती है।

वहीं पौराणिक कथा के अनुसार, भाई दूज वाले दिन यमराज हर वर्ष अपनी बहन यमुना से मिलने उनके घर जाते हैं। उन्होंने यमुना को आशीष दिया था कि भाई दूज वाले दिन जो भी भाई अपनी बहन के घर जाएगा, तिलक लगवाएगा और भोजन ग्रहण करेगा, उसकी सभी मनोकामनाएं पूर्ण होंगी और उसे कभी यम का भय नहीं होगा।

ऐसी मान्यता है कि ऐसा करने से भाई-बहन सभी प्रकार के संकटों से बचाया जा सके। शास्त्रों में यह भी मान्यता है कि होली के अगले दिन भाई को तिलक करने से सभी प्रकार की विपत्तियों से मुक्ति मिल जाती है और जीवन में सुख समृद्धि आती है।



Source होली भाई दूज 2021: जानें शुभ मुहूर्त व क्या करें और क्या न करें
https://ift.tt/3dm7KYM

Post a Comment

0 Comments