ads

Budh Rashi Parivartan 2011: बुध प्रदोष के ठीक अगले दिन महाशिवरात्रि को बुध करेंगे राशि परिवर्तन, जानिये इस परिवर्तन के मायने

ग्रहों की चाल में लगातार आ रहे बदलाव के बीच एक बार फिर बुध कुंभ राशि में प्रवेश करने जा रहे हैं। वैदिक ज्योतिष जहां में बुध ग्रह को बुद्धि, वाणी, धन, तर्क, संवाद और व्यापार का कारक माना जाता है, वहीं शरीर में इनका संबंध त्वचा से माना गया है। बुध ग्रह के कारक देवता प्रथम पूज्य श्री गणेश माने गए हैं।

ज्योतिष के अनुसार बुध ग्रह हमारे जीवन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। यदि किसी व्यक्ति की कुंडली में बुध ग्रह उच्च का होता है, तो उस व्यक्ति में आकर्षण शक्ति बहुत अधिक होती है। बुध ग्रह बुद्धिमत्ता, ग्रहणशील क्षमता, मजबूत निर्णय लेने, याद रखने, सोच, ज्ञान, व्यवहार कौशल, सूचना और गहन अध्ययन का प्रतीक है। किसी व्यक्ति के जीवन के इन सभी पहलुओं में सफलता प्राप्त करने के लिए जन्म कुंडली में बुध की स्थिति देखी जाती है।

Timing of Budh Transit : बुध के परिवर्तन का समय...
ऐसे में बुध 11 मार्च 2021 को दोपहर 12 बजकर 25 मिनट पर मकर राशि से निकलकर कुंभ राशि में प्रवेश करेगा। इसके बाद 31 मार्च 2021 तक यह कुम्भ राशि में ही स्थित रहेगा और फिर 1 अप्रैल को दोपहर 12 बजकर 33 मिनट पर मीन राशि में प्रवेश करेगा। इससे पहले 4 फरवरी,बृहस्पतिवार को 23:18 बजे बुध कुंभ से मकर में आए थे।

वहीं यहां यानि कुंभ में पहले से ही सूर्य और शुक्र मौजूद है, इसकी वजह से कुंभ राशि में तीन ग्रहों का संयोग बनेगा।

ज्योतिष के जानकारों के मुताबिक बुध के कुंभ राशि में गोचर के साथ, व्यक्ति के सोच-विचार अधिक प्रगतिशील हो जाते हैं। यह संकेत मानसिक गतिविधियों को आगे बढ़ाने के लिए जाना जाता है, माना जाता है कि इस दौरान व्यक्ति कार्यक्षमता में विस्तार सहित कई विषयों पर ज़्यादा चिंतन करने लगता है। कुल मिलाकर इस समय दिमाग सामान्य समय की तुलना में अधिक तेज़ गति के साथ चलने लगता है और मस्तिष्क अच्छे विचारों का भंडार बन जाता है।

इसके साथ ही जातक भावनात्मक रूप से जुड़ी चीज़ों को अधिक व्यवहारिक होकर समझने और देखने लगता है, जिसकी वजह से स्थिति का सही आंकलन करने में भी मदद मिलती है। कुछ परिस्थितियों में कुंभ राशि में बुध का गोचर आपकी भावनाओं पर हावी भी हो सकता है। इस दौरान व्यक्ति थोड़ा असंवेदनशील हो सकता है, इसलिए इस दौरान लोगों के साथ बातचीत करते समय अपनी वाणी पर नियंत्रण रखना चाहिए।

Budh Transit effects : बुध के इस परिवर्तन का 12 राशियों पर प्रभाव...

1. मेष राशि
इस समय बुध आपके ग्यारहवें घर यानि आय भाव में गोचर करेगा। बुध का यह गोचर आपके लिए काफी लाभप्रद होने के साथ ही आपको कई जगहों से आर्थिक लाभ भी दिलाएगा। इस समय आपको अपनी कड़ी मेहनत का फल मिलेगा। इसके साथ ही यह गोचर प्रेम संबंधों में पड़े लोगों के लिए भी बेहद शुभ रहेगा। बुध का यह गोचर आपकी लेखन शक्ति को काफी अच्छा करेगा और इस समयावधि में आप काम के सिलसिले में छोटी दूरी की यात्राएं भी कर सकते हैं।

उपाय: बुधवार के दिन शिवलिंग का शहद से अभिषेक करें।


2. वृषभ राशि
बुध इस समय आपके दसवें घर यानि कर्म भाव में प्रवेश करेगा। इस दौरान आपको अपने कॅरियर में वृद्धि और सफलता मिलने की संभावना है। आपके कार्यक्षेत्र में बदलाव आपके लिए अच्छा लाभ लेकर आएगा। आर्थिक रूप से, यह अवधि धन संबंधी मामलों और निवेश के लिए बहुत अनुकूल रहेगी। आपके बिज़नेस के विस्तार के लिए एक शानदार समय हो सकता है। आपके बच्चे इस दौरान आपकी खुशी का स्रोत बनेंगे। वहीँ बात करें आपके व्यक्तिगत जीवन की तो, आपके रिश्ते सुखद होंगे।

उपाय: बुध की होरा में बुध मंत्र का जाप करें।


3. मिथुन राशि
इस समय बुध आपके नवें घर यानि भाग्य भाव में प्रवेश करेगा। इस दौरान आप काफी सकारात्मक और आशावादी रहेंगे। व्यावसायिक रूप से यह अवधि बहुत शुभ रहेगी, और आप सभी बाधाओं को नियंत्रित करने में भी सक्षम होंगे। इस गोचर में आपका आत्मविश्वास ऊंचा रहेगा, और आप अपने कार्यस्थल पर अपने विचारों और सुझावों को बेहतरीन तरीके से व्यक्त करके दूसरों को प्रभावित कर पाएंगे।

व्यवसाय की दृष्टि से, यह समय अपनी कार्यशैली में सुधार लाने और नई नीतियों को पेश करने के लिए अनुकूल होगा। काम से संबंधित यात्राएं फ़ायदेमंद होगी, और इस दौरान आप लंबी दूरी की तीर्थ यात्रा पर भी जा सकते हैं। इस समय के दौरान आपका झुकाव आध्यात्मिकता की ओर होगा और इसकी मदद से आपको आनंद और शांति की प्राप्ति होगी।

उपाय: प्रतिदिन सुबह घर में कपूर जलाएं।

4. कर्क राशि
इस दौरान बुध आपके आठवें घर यानि आयु भाव में प्रवेश करेगा। जिसके चलते इस अवधि में आपको काम में आपको काफी उतार-चढ़ाव का सामना करना पड़ सकता है। यह स्थिति आपको काफी हतोत्साहित भी कर सकती है, जिससे आपको लगेगा कि आपकी कड़ी मेहनत का पूरा फल आपको नहीं मिल रहा है।

इस अवधि के दौरान, आपको सोच-समझकर बोलने की ज़रूरत है। सेहत की बात करें तो आपको त्वचा संबंधी कुछ परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। इस गोचरकाल के दौरान यात्रा करने से बचें क्योंकि यात्रा करना आपके लिए ज़्यादा लाभकारी नहीं होगा। यह अवधि उन लोगों के लिए उपयुक्त है, जो अनुसंधान या जांच-आधारित गतिविधियों से जुड़े हुए हैं।

उपाय: बुधवार को हरे कपड़े या खाद्य पदार्थों का दान करें।

 

5. सिंह राशि
इस समय बुध आपके सातवें घर यानि विवाह भाव में प्रवेश करेगा। यह गोचर आपके लिए अनुकूल परिणाम लाने वाला है। इस समय आपकी आय अच्छी होगी और कई व्यापारिक सौदे भी आप करेंगे। इस अवधि में व्यावसायिक साझेदारी फलदायी रहेगी और व्यापार का विस्तार भी होगा। इस गोचर की अवधि के दौरान, सही दिशा में आपके निरंतर प्रयासों के कारण आपका व्यवसाय बढ़ेगा और समृद्ध होगा।

यदि आप इस अवधि में अपना कोई नया बिज़नेस शुरू करना चाहते हैं, तो यह समय उसके लिए एकदम सही है (लेकिन साझेदारी से बचें) क्योंकि आप इस अवधि में जो भी शुरू करेंगे, उसमें सफलता प्राप्त करेंगे क्योंकि भाग्य इस दौरान आपके साथ है। बुध का यह गोचर विवाहित जातकों के लिए थोड़ा चुनौतीपूर्ण हो सकता है।

उपाय: रोजाना सुबह गजेंद्र मोक्ष स्तोत्रम का पाठ करें।


6. कन्या राशि
इस दौरान बुध आपके छठे घर यानि रोग व शत्रु भाव में प्रवेश करेगा। इस अवधि के दौरान, थोड़ी सी भी असावधानी संभवतः आपको परेशानी में डाल सकती है, इसलिए सावधान रहें। इस अवधि के दौरान, आपके दुश्मन आपको कुछ परेशानी में डाल सकते हैं, इसलिए यह सलाह दी जाती है कि किसी भी तर्क में शामिल न हों या किसी के साथ लड़ाई न करें।

सेहत की बात करें तो, आपको संतुलित आहार लेने और तनाव और चिंता को दूर करने के लिए नियमित ध्यान का अभ्यास करने की सलाह दी जाती है। इस अवधि के दौरान, आपके खर्चें बढ़ने से आपको तनाव और चिंता होने की संभावना है। करियर के मोर्चे पर, आप अपनी नौकरी में अनुकूल परिणाम प्राप्त करने में सक्षम होंगे।

इसके साथ ही, आपको कार्यक्षेत्र में वरिष्ठों और सहकर्मियों से सराहना मिलने की संभावना भी है। कुल मिलाकर यह अवधि आपके लिए औसत साबित होगी। वहीं स्वास्थ्य कारणों या फिर पेशेवर प्रतिबद्धताओं की वजह से आपके और आपके जीवनसाथी के बीच की दूरी बढ़ सकती है।

उपाय: शुभ फल पाने के लिए एक मुखी रुद्राक्ष पहनें ।

7. तुला राशि
इस समय बुध आपके पांचवें घर यानि बुद्धि व पुत्र भाव में प्रवेश करेगा। यह अवधि आपके लिए शानदार साबित होगी, क्योंकि आपकी आय में तेजी से वृद्धि होगी, और आपकी योजनाएं बिना किसी बाधा के आगे बढ़ेगी। आप इस दौरान आप अपने प्रतिद्वंद्वियों को कड़ी चुनौती देने और बेहतर लाभ प्राप्त करने में सक्षम होंगे।

प्रेमियों के लिए भी यह अवधि अनुकूल रहने की संभावना है। आर्थिक रूप से, यह गोचरकाल आपके लिए शुभ रहेगा, और भाग्य आपके पक्ष में होगा। आप अपने वरिष्ठों को प्रभावित करने में सक्षम होंगे। सेहत के लिहाज़ से, यह आपके लिए एक अनुकूल अवधि होगी, लेकिन फिर भी, आपको नियमित रूप से व्यायाम करना चाहिए।

उपाय: प्रतिदिन तुलसी के पौधे की पूजा करें।


8. वृश्चिक राशि
इस दौरान बुध आपके चौथे घर यानि माता व सुख भाव में प्रवेश करेगा। ऐसे में इस समय संपत्ति की बिक्री से संबंधित अच्छे लाभ आपको मिलने की संभावना है। परिवार का माहौल बहुत अनुकूल होगा, और पारिवारिक मेलजोल के लिए यह एक अच्छा समय हो सकता है।

आर्थिक रूप से यह अवधि आपके लिए फ़ायदेमंद साबित होगी, क्योंकि आय में वृद्धि हो सकती है, और आपको भविष्य में वृद्धि और विकास का अवसर मिलेगा। छात्रों के लिए यह अवधि उचित है और उन्हें परीक्षाओं में अच्छा प्रदर्शन करने में मदद मिलेगी। सेहत की बात करें तो इस गोचरकाल के दौरान अपने स्वास्थ्य पर ध्यान रखें।

उपाय: "ऊँ भ्रां भ्रीं भ्रौं बुधाय नमः" मंत्र का रोज 108 बार जाप करें।


9. धनु राशि
इस समय बुध आपके तीसरे घर यानि पराक्रम भाव में प्रवेश करेगा। इस अवधि के दौरान, आपको प्रसिद्धि और भाग्य का साथ मिल सकता है। आपके द्वारा साझेदारी में किये जा रहे व्यवसाय में वृद्धि के अलावा आप अपने भाई-बहनों के साथ आनंदमय समय बिताएंगे।

इस गोचरकाल में आप किसी यात्रा पर जा सकते हैं, जो आपको आनंद और धन की प्राप्ति करा सकता है। लेकिन अपनी यात्राओं के दौरान सतर्क रहें। यह समय अपने संचार का उपयोग करने और अपने रिश्तेदारों के साथ अपने संबंध को बढ़ाने के लिए उत्तम है। सेहत अच्छी रहेगी, लेकिन एक बार अपने स्वास्थ्य की जांच ज़रूर करा लें।

उपाय: बुधवार के दिन अपनी क्षमता के अनुसार दान करें।

10. मकर राशि
इस दौरान बुध आपके दूसरे घर यानि धन व वाणी भाव में प्रवेश करेगा। इस अवधि के दौरान, आपका भाग्य आपको इस अवधि में अधिकतम लाभ प्राप्त करने में मदद करेगा। साथ ही आप अपनी बुद्धि से सभी को प्रभावित करेंगे।

यह समय आपको अपने वित्त में बढ़ौतरी करने में मदद करेगा। इस समय खानपान के चलते अपने स्वास्थ्य का खास ध्यान रखें। वहीं परिवार के लोगों के स्वास्थ्य का भी खास ध्यान रखें। इस गोचर के किसी भी चिंता या तनाव को अपने ऊपर हावी न होने दें।

उपाय: रविवार को गरीबों और ज़रूरतमंदों को गेहूं दान करें।


11. कुम्भ राशि
इस समय बुध आपके पहले घर यायिन लग्न भाव में प्रवेश करेगा। बुध ग्रह का यह गोचर आपके लिए शुभ रहने वाला है। आपको इस अवधि में कुछ अच्छे लाभ भी प्राप्त होंगे। परिवार और दोस्तों के साथ आपके रिश्ते पहले से ज्यादा मजबूत होंगे। वहीं जिन लोगों का व्यवसाय साझेदारी में है, उनके रिश्ते पहले से ज़्यादा मजबूत होंगे।

इस दौरान अपने सेहत की उचित देखभाल करना आपके लिए आवश्यक है, क्योंकि आपको कुछ स्वास्थ्य समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। इस अवधि में अपने लक्ष्य तक पहुंचने के लिए आपको ख़र्चों पर नियंत्रण रखना होगा। इस समय अपने स्वास्थ्य की उपेक्षा न करें और अपने स्वास्थ्य का ध्यान रखें।

उपाय: "ओम नमो भगवते वासुदेवाय नमः" का जाप करें।


12. मीन राशि
इस दौरान बुध आपके बारहवें घर यानि व्यय भाव में प्रवेश करेगा। इस गोचरकाल के दौरान जीवनसाथी के साथ कुछ ग़लतफहमी होने की भी संभावना है, इसलिए अपने साथी के साथ शांति और विनम्रता से पेश आएं। इस अवधि के दौरान आप उच्च पदों पर बैठे लोगों के साथ संपर्क स्थापित करेंगे, जो लंबे समय में आपके लिए फायदेमंद होगा।

इस समय जो लोग निर्यात और आयात से संबंधित हैं, उनके लिए यह अवधि अनुकूल है और वहीँ जो व्यावसायिक क्षेत्रों में हैं, उन्हें सावधान रहने की सलाह दी जाती है। इस समय आपका झुकाव विलासिता की ओर होगा और आप जीवन में फैंसी चीजों को शामिल करना चाहेंगे। उचित होगा संपत्ति संबंधी मामलों से दूर रहें और अपने परिवार के साथ अच्छा समय बिताने की कोशिश करें।

उपाय: विवाहित महिला को हरी चूड़ियां भेंट करें।



Source Budh Rashi Parivartan 2011: बुध प्रदोष के ठीक अगले दिन महाशिवरात्रि को बुध करेंगे राशि परिवर्तन, जानिये इस परिवर्तन के मायने
https://ift.tt/3byvutj

Post a Comment

0 Comments