ads

अष्टमी पूजा पर ऐसे करें कन्या पूजन, जानिए शुभ मुहूर्त और मंत्र

नई दिल्ली। नवरात्रि में 9 दिनों तक मां दुर्गा के नौ रूपों की पूजा-आराधना की जाती है। नवरात्रि में अष्टमी और नवमी तिथि का विशेष महत्व होता है। 20 अप्रैल यानी कल मंगलवार को अष्टमी मनाई जाएगी। अष्टमी को दुर्गा अष्टमी या महाअष्टमी भी कहा जाता है। नवरात्रि में कन्या पूजन बहुत महत्वपूर्ण माना जाता है। इस दिन छोटी कन्याओं को देवी का स्वरूप मानकर उनकी पूजा की जाती है। इसके साथ ही सुख-समृद्धि एवं निरोगी का आशीर्वाद लेते है। आइए जानते है अष्टमी तिथि पर कन्या पूजन शुभ और पूजन विधि।


काले चने, हलवा और पूड़ी का भोग करें तैयार
सुबह सूर्योदय से पहले उठें। स्नान कर साफ कपड़े पहनें। महाष्टमी के दिन सुबह स्नान करने के बाद देवी भगवती की पूरे विधि विधान से पूजा करनी चाहिए। माता की प्रतिमा अच्छे वस्त्रों से सुसज्जित रहनी चाहिए। यज्ञ करने के बाद व्रतियों को कन्या रूपी देवी को भोजन कराने की मान्यता है। देवी को भोग लगाने के लिए काले चने, हलवा और पूड़ी का भोग तैयार करें।

कन्या पूजा की विधि
12 साल से छोटी कन्याओं को अपने घर लेकर आएं। साफ पानी से उनके पैर धोएं। फिर सूती कपड़े से उनके पैर साफ करें। उन्हें बैठने के लिए स्थान दें। उनके लिए आसन बिछाएं। कन्याओं में नौ देवी मानकर प्रणाम करें। फिर कन्याओं के पैर छूएं। सभी कन्याओं के हाथ में कलावा बांधें। माथे पर कुमकुम का तिलक लगाएं। फिर सभी कन्याओं के लिए खाना परोसें। कन्याओं को खाने के साथ केला और नारियल का भोग भी जरूर दें। इसके बाद सभी कन्याओं से प्रार्थना करें कि वह सभी पेट पर भोजन करें। भोजन के बाद उन्हें पानी पिलाएं। साथ में दक्षिणा जरूर दें। फिर उनके पैर छूकर उन्हें विदा करें। कन्याओं को सम्मान पूर्वक विदा करें। ऐसा माना जाता है कि कन्याओं के रूप में मां ही आती हैं।

यह भी पढ़ें :— Chaitra Navratri 2021 Day7 सप्तमी के दिन मां कालरात्रि की पूजा विधि, मंत्र के अलावा जानें महत्व और पौराणिक कथा

इस मंत्र का 11 बार जाप करें—
या देवी सर्वभूतेषु शांति रूपेण संस्थिता।
नमस्‍तस्‍यै नमस्‍तस्‍यै नमस्‍तस्‍यै नमो नम:

यह भी पढ़ें :— आज का Horoscope video, 19 APRIL: सोमवार का दिन क्या खास लाया है आपके लिए ? यहां देखें

अष्टमी का शुभ मुहूर्त...
अष्टमी तिथि प्रारंभ- 20 अप्रैल 2021 को मध्य रात्रि 12 बजकर 01 मिनट से
अष्टमी तिथि समाप्त- 21 अप्रैल 2021 को मध्यरात्रि 12 बजकर 43 मिनट तक
कन्या पूजा के मुहूर्त
सुबह- 7.15 से 9.05 तक
दोपहर- 01.40 से 03.50 तक

 



Source अष्टमी पूजा पर ऐसे करें कन्या पूजन, जानिए शुभ मुहूर्त और मंत्र
https://ift.tt/2QBcEcK

Post a Comment

0 Comments