ads

सचिन तेंदुलकर का छलका दर्द, बोले-'10-12 साल टेंशन में गुजारे, रात को सो भी नहीं पाता था'

नई दिल्ली। क्रिकेट के भगवान कहे जाने वाले मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulkar) ने अपने 24 साल के क्रिकेट कॅरियर (Sachin Cricket Career) को लेकर बात करते हुए कई सीक्रेट खोले। शायद ही उनका यह सीक्रेट पहले कोई जानता होगा। उन्होंने बताया कि मैंने मेरे क्रिकेट कॅरयर के 10-12 साल तनाव में गुजारे और इसके बाद मैंने इसी को अपनी आदत बना लिया। इन सब बातों का खुलासा तेंदुलकर ने कोविड-19 (Covid-19) के दौरान IPL में बायो-बबल (Bio Bubble) में अधिक समय बिताने से खिलाड़ियों के मानसिक स्वास्थ्य पर पड़ रहे असर पर बात करते हुए किया। बता दें कि तेंदुलकर ने 16 नवंबर, 2013 में क्रिकेट से संन्यास लिया था। रिटायरमेंट के 8 साल बाद अब सचिन ने अपने क्रिकेट कॅरियर का अनुभव शेयर किया है।

यह भी पढ़ें—धनश्री वर्मा के बाद मुश्किल दौर से गुजर रहे युजवेंद्र चहल का छलका दर्द, शेयर किया इमोशनल पोस्ट

मैच से पहले खेलने लगते थे दिगामी मैच
सचिन तेंदुलकर ने हाल ही एक कार्यक्रम में बताया, 'कॅरियर की शुरुआत में 10-12 साल तक मैच से पहले मैं बहुत मानसिक तनाव में रहता था। मैदान में प्रवेश करने से पहले ही मैं दिमागी मैच खेलना शुरू कर देता था। इसके बाद मैंने धीरे-धीरे महसूस किया कि शारीरिक रूप से तैयारी के साथ मानसिक रूप से भी तैयार रहना होगा। बदलते समय के साथ फिर मैंने इसे अपनी आदत बना लिया। मेरे साथ मैच से पहले कई बार ऐसा हुआ था कि मैं रात को ठीक से सो नहीं पाता था। इसके बाद मैंने अपने दिमाग को सहज रखने के लिए अलग-अलग तरीके निकाले और मैंने स्वीकार कर लिया कि यह मेरी मैच की तैयारी का एक हिस्सा है।'

एक दिन पहले ही कर लेता था बैग तैयार
सचिन ने बताया कि मैं अपने दिमाग को स्थिर रखने के लिए मैच से एक दिन पहले ही अपना बैग तैयार करने में लग जाता था। यह मेरी एक आदत सी बन गई थी। मुझे मैच से पहले चाय बनाने, कपड़े इस्त्री करने जैसे कार्यों से भी खुद को खेल के लिए तैयार करने में मदद मिलती थी। ये सब मेरे भाई ने मुझे सिखाया था। धीरे—धीरे ये मेरी आदत बन गई और मैंने भारत के लिए खेले गए अपने आखिरी मैच में भी ऐसा ही किया था।

 

sachin_tedulkar-1.jpg

अच्छे-बुरे दौर से गुजरना सामान्य बात
सचिन ने कहा कि एक खिलाड़ी को अच्छे और बुरे दोनों दौर से गुजरना पड़ा है। लेकिन जरूरी नहीं है कि वह बुरे समय को स्वीकार करें। उन्होंने कहा, ‘जब आप चोटिल होते हैं तो चिकित्सक या फिजियो आपका इलाज करते हैं। मानसिक स्वास्थ्य के मामले में भी ऐसा ही है। किसी के लिए भी अच्छे-बुरे समय का सामना सामान्य बात है। इसके लिए आपकों चीजों को स्वीकार करना होगा। यह सिर्फ खिलाड़ियों के लिए नहीं है बल्कि जो उसके साथ है उस पर भी लागू होती है। जब आप इसे स्वीकार करते है तो फिर इसका समाधान ढूंढने की कोशिश करते हैं।’

यह भी पढ़ें—Ben Stokes ने किया साफ मना, राजस्थान रॉयल्स के लिए नहीं खेलेंगे IPL 2021 के बचे हुए मैच

होटल कर्मचारी की वजह से चोट से उबर सका
सचिन ने बताया कि मैं टेनिस एल्बो की समस्या से परेशान था और एल्बो गार्ड की वजह से मेरा बल्ला पूरी तरह नहीं चल रहा था। एक दिन होटल में एक कर्मचारी मेरे रूम में डोसा लेकर आया और उसे टेबल पर रखने के बाद उन्होंने मुझे इस समस्या से निजात पाने के लिए उपाय बताया और मैं इस समस्या से उबर गया। गौरतबल है कि सचिन तेंदुलकर ने अपने 24 साल के क्रिकेट कॅरियर में शतकों का शतक लगाया था।



Source सचिन तेंदुलकर का छलका दर्द, बोले-'10-12 साल टेंशन में गुजारे, रात को सो भी नहीं पाता था'
https://ift.tt/3uUDFr0

Post a Comment

0 Comments