ads

चीटिंग कर ग्रैंडमास्टर विश्वनाथन आनंद से शतरंज में जीते निखिल कामथ, लोगों ने सुनाई खरी-खोटी

शतरंज के खेल को जीतने के लिए दिमाग और अनुभव की आवश्यकता होती है। वहीं शतरंज के ग्रैंड मास्टर कहे जाने वाले विश्वनाथन आनंद के शतरंज में जीत पाना इतना आसान नहीं है। हालांकि हाल ही एक इवेंट में जेरोधा के को फाउंडर और सीईओ निखिल कामथ ने विश्वनाथन आनंद को हरा दिया। विश्वनाथन आनंद की हार से सभी हैरान रह गए, लेकिन खुद निखिल ने बाद में इस बात का खुलासा किया कि उन्होंने यह जीत चीटिंग करके हासिल की है। इस खुलासे के बाद निखिल कामथ ट्रोल हो रहे हैं। सोशल मीडिया पर लोग उन्हें खरी—खोटी सुना रहे हैं। इसके साथ ही चेस डॉट कॉम ने कामथ को बैन भी कर दिया है।

चैरिटी के लिए था इवेंट
निखिल कामथ ने जिस इवेंट में ग्रैंडमास्टर छ जिस इवेंट में निखिल ने ग्रैंडमास्टर आनंद को हराया था वो एक चैरिटी इवेंट था, जिसे देश में कोविड राहत फंड के लिए आयोजित किया गया था। वहीं कामथ के खुलासे के बाद लोग उनसे काफी नाराज हैं। हालांकि बाद में निखिल कामथ ने एक ट्वीट करते हुए इसके लिए माफी भी मांगी। वहीं ग्रैंडमास्टर विश्वनाथ आनंद ने एक बयान में कहा कि यह धन जुटाने की खातिर लोगों के लिए एक सेलेब्रिटी सिमुल था। साथ ही आनंद ने कहा कि उन्होंने बोर्ड में अपनी पोजिशन निभाई और हर किसी को यही उम्मीद थी।

यह भी पढ़ें— राज्य स्तरीय ऑनलाइन शतरंज प्रतियोगिता: अंडर-18 आयु वर्ग में प्रियांशु साहू नेे मारी बाजी

कामथ ने किया इस ट्रिक का इस्तेमाल
मैच में जीत हासिल करने के बाद निखिल कामथ ने सच्चाई बताते हुए एक बयान जारी किया था। इसमें उन्होने बताया था कि यह सोचना बेवकूफी है कि उन्होंने वास्तव में शतरंज के खेल में विश्वनाथन आनंद को हरा दिया है। उन्होंने बयान में लिखा था कि यह तो ऐसे ही है जैसे एक सुबह मैं जगूं और 100 मीटर की दौड़ में उसैन बोल्ट को हरा दूं। साथ ही उन्होंने बताया कि इस मुकाबले में उन्होंने गेम का विश्लेषण करने वाले कुछ लोगों, कम्प्यूटर की मदद ली और खुद विश्वनाथन आनंद की उदारता की वजह से यह खेल जीता। साथ ही उन्होंने कहा कि मुझे एहसास नहीं था कि इसकी वजह से इससे इतना बड़ा कन्फ्यूजन हो जाएगा। उन्होंने इसके लिए माफी भी मांगी।



Source चीटिंग कर ग्रैंडमास्टर विश्वनाथन आनंद से शतरंज में जीते निखिल कामथ, लोगों ने सुनाई खरी-खोटी
https://ift.tt/3pW23Xj

Post a Comment

0 Comments