ads

मुक्केबाज मैरी कॉम ने माफी मांगी, प्रधानमंत्री ने कहा, जीत और हार जीवन का हिस्सा

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ब्रेकफास्ट पर भारतीय ओलंपिक दल की मेजबानी की और इस दौरान उन्होंने एमसी मैरी कॉम से बात करते हुए कहा कि उन्होंने पिछले एक दशक से देश में महिला एथलीटों को सुर्खियों में ला दिया। प्रधानमंत्री ने कहा, हमने आपको संसद में मिस किया। जिस पर राज्यसभा सांसद ने जवाब देते हुए कहा, मैं अभ्यास के कारण हिस्सा नहीं ले सकी। गौरतलब है कि मैरी कॉम राज्यसभा सांसद हैं।

'जीत हार जीवन का हिस्सा है'
मैरी कॉम ने टोक्यो ओलंपिक में पदक नहीं जीत पाने को लेकर माफी मांगी। हालांकि प्रधानमंत्री ने कहा, जीत और हार जीवन का हिस्सा है। आपने खेल की दुनिया में बहुत बड़ा योगदान दिया है, विशेषकर भारत में। यह आपकी देन है जिसके कारण आज महिला एथलीट सुर्खियों में है। पिछले दशक से आप हावी रही हैं और आपने बहुत कुछ हासिल किया है।

यह खबर भी पढ़ें:—नीरज चोपड़ा से पीएम मोदी ने पूछा-दूसरे थ्रो के बाद ही 'विक्ट्री मोड' में क्यों आ गए थे? वीडियो में देखें गोल्डन ब्वॉय का जवाब

'हार के बाद आंखों में आंसू और चेहरे थी मुस्कान'
विश्‍व चैंपियन मैरी कॉम टोक्यो ओलंपिक 2020 में अंतिम 16 के मुकाबले में हारकर बाहर हो गई थीं। उन्हें कोलंबिया की इनग्रिट वेलेंसिया ने 3-2 से हराया। 38 साल की मैरी कॉम छह बार की वर्ल्ड चैंपियन रही हैं और भारत की सबसे बड़ी महिला मुक्केबाज हैं। मैरीकॉम का यह अंतिम ओलंपिक था। टोक्‍यो ओलंपिक के अपने मुकाबले में मैच के बाद जब रैफरी ने वालेंसिया का हाथ ऊपर उठाया तो मैरी कॉम की आंखों में आंसू और चेहरे पर मुस्कान थी। भले ही मैरी कॉम खुद मैच हार गईं, लेकिन उन्होंने खेल भावना का परिचय देते हुए विपक्षी खिलाड़ी के हाथ उठाकर उन्हें बधाई दी। मैरी कॉम 2012 लंदन ओलंपिक में कांस्य पदक अपने नाम कर चुकी हैं।



Source मुक्केबाज मैरी कॉम ने माफी मांगी, प्रधानमंत्री ने कहा, जीत और हार जीवन का हिस्सा
https://ift.tt/3gf3yMW

Post a Comment

0 Comments