ads

तालिबान के कब्जे से दहशत में अफगानिस्तान की महिला फुटबॉल खिलाड़ी, रो-रोकर मांग रहीं पूर्व कप्तान से मदद

अफगानिस्तान में तालिबान के कब्जे के बाद अगर सबसे ज्यादा डर किसी वर्ग को है तो वह हैं महिलाएं। पिछले दो दशकों में अफगानिस्तान की महिलाओं ने खुद को मर्दोें के साथ कंधे से कंधा मिलाकर चलने के काबिल बनाया है। खेलों में भी अफगानिस्तान की महिलाएं आगे आई हैं। अब तालिबान के कब्जे के बाद ये महिला खिलाड़ी दहशत में हैं। अफगानिस्तान की महिला फुटबॉल टीम की पूर्व कप्तान खालिदा पोपल का कहना है कि उनके पास टीम की खिलाड़ियों के फोन और वॉयस कॉल आ रहे हैं, जिसमें वे उनसे रो-रो कर मदद और सलाह मांग रही हैं।

पहचान मिटाने की दे रहीं सलाह
खालिदा पोपल के पास जब महिला फुटबॉल खिलाड़ियों के मदद मांगने के लिए फोन आ रहे हैं तो वह उन खिलाड़ियों को सुरक्षित स्थान पर छिपने और अपनी पहचान मिटाने जैसी सलाह दे रही हैं। पोपल ने टेलीफोनिक इंटरव्यू में मीडिया को बताया कि वह सभी महिला खिलाड़ियों को उनके सोशल मीडिया चैनल को डिलीट करने, तस्वीरें हटाने, भागने और खुद को छिपाने की सलाह दे रही हैं। उनका कहना है कि यह सब देखकर उनका दिल टूट जाता है क्योंकि पिछले कुछ वर्षों में महिलाओं को बढ़ाने के लिए काम किया है और अब वह अफगानिस्तान में अपनी महिला खिलाड़ियों को चुप रहने और कहीं गायब होने के लिए कह रही हैं क्योंकि उन लोगों की जान को खतरा है।

यह भी पढ़ें— इंग्लैंड में खेल रहे राशिद खान चिंतित, अफगानिस्तान में फंसा है परिवार, नहीं निकाल पा रहे बाहर

afghanistan_womens_football_team.png

पोपल ने महिलाओं को फुटबॉल खेलने के लिए प्रेरित किया
जब 1996 में तालिबान ने काबुल पर कब्जा किया था तो पोपल अपने परिवार के साथ देश छोड़कर चली गई थीं। इस दौरान वह पाकिस्तान में एक शरणार्थी शिविर में रहीं। इसके बाद दो दशक पहले वह वापस अफगानिस्तान लौटीं। यहां लौटकर उन्होंने महिलाओं और लड़कियों को सशक्त बनाने के लिए फुटबॉल खेलने वाली दूसरी युवा महिलाओं के साथ शुरुआत की। वर्ष 2007 तक पोपल के पास अफगानिस्तान की पहली महिला राष्ट्रीय फुटबॉल टीम का हिस्सा बनने के लिए पर्याप्त खिलाड़ी थींं।

यह भी पढ़ें— इस दिग्गज क्रिकेटर ने दुनिया से की अपील-हम मर जाएंगे, प्लीज हमें बचा लो...

मौत की धमकियां मिली
पोपल का कहना है कि उन्हें जर्सी पहनकर बहुत गर्व महसूस हुआ। यह एक खूबसूरत, सबसे अच्छा एहसास था। साथ ही उन्होंने बताया कि उन्हें जान से मारने की धमकियां और चुनौतियां मिलीं, क्योंकि वह नेशनल टीवी पर तालिबान को अपना दुश्मन कह रही थीं। पोपल ने वर्ष 2011 में अफगानिस्तान फुटबॉल एसोसिएशन में डायरेक्टर के पद पर काम किया। इसके बाद भी उन्हें लगातार धमकियां मिलती रहीं। ऐसे में उन्होंने वर्ष 2016 में डेनमार्क में शरण लेने को मजबूर होना पड़ा।



Source तालिबान के कब्जे से दहशत में अफगानिस्तान की महिला फुटबॉल खिलाड़ी, रो-रोकर मांग रहीं पूर्व कप्तान से मदद
https://ift.tt/3CNSoIF

Post a Comment

0 Comments