ads

कभी दोनों थे अच्छे दोस्त, इस एक फैसले के चलते धोनी और युवराज के रिश्तों में आई थी दरार, जानिए पूरा मामला

 

भारतीय टीम के पूर्व ऑलराउंडर और 2011 वर्ल्ड कप के हीरो युवराज सिंह अक्सर सुर्खियों में बने रहते हैं। कभी अपने पिता योगराज सिंह के बयान को लेकर तो कभी खुद की बयानबाजी को लेकर सोशल मीडिया पर सवालों के घेरे में बने रहते हैं। अब एक बार फिर वह अचानक सुर्खियों में आ गए है वो भी भारतीय टीम की कप्तानी को लेकर। कभी युवराज सिंह और धोनी एक अच्छे दोस्त हुआ करते थे, लेकिन टीम की कप्तानी को लेकर एक ऐसा दौर आया कि दोनों एक-दूसरे के दुश्मन बन बैठे थे।

'द्रविड़ के बाद मिलनी चाहिए थी कप्तानी'
युवराज सिंह के मुताबिक, पूर्व भारतीय कप्तान राहुल द्रविड़ के बाद भारतीय टीम की कप्तानी उन्हें मिलनी चाहिए थी, लेकिन चयनकर्ताओं ने उन्हें नजरअंदाज करते हुए महेंद्र सिंह धोनी को कप्तान बना दिया था।

यह खबर भी पढ़ें:—भारतीय क्रिकेटर स्टुअर्ट बिन्नी ने क्रिकेट के सभी फॉर्मेट से लिया सन्यास, बनाया था सर्वश्रेष्ठ गेंदबाजी का रिकॉर्ड

युवराज बोले-'वनडे वर्ल्ड कप में बुरी तरह हारा था भारत'
युवराज सिंह ने इस मामले पर बात करते हुए अपने एक इंटरव्यू में कहा था कि उस साल भारत पहले ही 50 ओवर वर्ल्ड कप में बुरी तरह हारकर बाहर हुआ था। मेरा मतलब उस समय भारतीय टीम में जोरदार खलबली मची हुई और इसके बाद टीम को 2 महीने लंबा इंग्लैंड का दौरा करना था। इसके बाद आयरलैंड और साउथ अफ्रीका का भी एक—एक महीने का टूर था। टी20 वर्ल्ड का भी महीने लंबा शेड्यूल था और इस तरह टीम को पूरे 4 महीने घर से बाहर रहना था।

'टी20 वर्ल्ड कप में थी कप्तानी की उम्मीद'
युवराज सिंह का कहना है कि उन्हें टी20 वर्ल्ड कप में कप्तानी की उम्मीद थी। तब सीनियर खिलाड़ियों ने सोचा था कि उन्हें क्रिकेट से थोड़ा ब्रेक चाहिए और उस समय कोई भी टी20 वर्ल्ड कप को सीरियस नहीं ले रहा था। ऐसे में मैं उम्मीद कर रहा था कि उन्हें टी20 वर्ल्ड कप में कप्तानी मिलेगी। लेकिन जब घोषणा हुई तो महेंद्र सिंह धोनी का नाम कप्तान के तौर पर ऐलान किया गया।

यह भी पढ़ें— टीम इंडिया के ये 5 क्रिकेटर अभी भी हैं कुंवारे, अफेयर्स को लेकर रहे सुर्खियों में

युवराज के पिता ने लगाए थे धोनी पर कई आरोप
वर्ल्ड कप में युवराज सिंह को कप्तानी नहीं मिलने के साथ ही धोनी और उनके बीच मतभेद शुरू हो गए थे। एक तरह से दोनों दोस्तों के बीच दुश्मनी हो गई थी। युवराज के पिता योगराज ने धोनी पर टीम के चयन में पक्षपात के आरोप लगाए थे और इस मामले में काफी तूल पकड़ा था। इसके बाद युवराज सिंह को इस पर बयान देना पड़ा था। तब जाकर मामला शांत हुआ था। दरअसल, युवराज, धोनी की कप्तानी में लंबे समय तक टीम से बाहर रहे थे। योगराज का कहना था कि युवराज सिंह से मतभेद के चलते धोनी उन्हें टीम में जगह नहीं देना चाहते थे।



Source कभी दोनों थे अच्छे दोस्त, इस एक फैसले के चलते धोनी और युवराज के रिश्तों में आई थी दरार, जानिए पूरा मामला
https://ift.tt/3sZLgo7

Post a Comment

0 Comments