ads

Independence Day 2021: ओलंपिक्स में भारत ने आज़ादी से पहले भी जीते हैं मेडल, जानिए 1947 से पहले और बाद की विजय गाथा

Independence Day 2021: टोक्यो ओलंपिक 2020 में भारत ने अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन किया। इस ओलंपिक में भारत ने 7 मेडल जीते, जिनमें एक गोल्ड, दो सिल्वर और 4 ब्रॉन्ज मेडल शामिल हैं। नीरज चोपड़ा ने भारत को जेवलिन थ्रो में गोल्ड मेडल दिलाया। आजादी से पहले भी भारतीय खिलाड़ी ओलंपिक खेलों में हिस्सा लेते थे और मेडल भी जीते। भारत ने सबसे पहले वर्ष 1900 में हुए पेरिस ओलंपिक में हिस्सा लिया था। अपने डेब्यू ओलंपिक में ही भारत ने मेडल अपने नाम किया था। तब से लेकर अब तक भारत ने 24 ओलंपिक खेलों में 35 पदक जीते हैं। जिसमें स्वर्ण, रजत और कांस्य पदक शामिल हैं।

नॉर्मन प्रिचर्ड ने जीता था पहला व्यक्तिगत मेडल
भारत ने अपने पहले ओलंपिक की शुरुआत वर्ष 1900 के पेरिस ओलंपिक में नॉर्मन प्रिचर्ड के साथ की थी। इस ओलंपिक में पहले भारतीय प्रतिनिधि नॉर्मन ने एथलेटिक्स में पांच पुरुष स्पर्धाओं में भाग लिया था, जिनमें 60 मीटर, 100 मीटर, 200 मीटर, 110 मीटर और 200 मीटर बाधा दौड़ शामिल थी। इसमें से नॉर्मन ने 200 मीटर स्प्रिंट और 200 मीटर बाधा दौड़ में दो रजत पदक अपने नाम किए थे। आजादी से पहले नॉर्मन प्रिचर्ड ने भारत के लिए पहला इंडिविजुअल मेडल जीता।

एम्स्टर्डम 1928: भारतीय हॉकी पुरुष टीम ने जीता गोल्ड मेडल
भारतीय हॉकी टीम ने अपना पहला ओलंपिक मेडल वर्ष 1928 के एम्सटर्डम ओलंपिक में जीता था। उस वक्त हॉकी के दिग्गज खिलाड़ी मेजर ध्यानचंद के नेतृत्व में भारतीय पुरुष हॉकी ने 29 गोल किए और एक भी गोल खाए बिना उन्होंने अपना पहला ओलंपिक गोल्ड मेडल जीता। फाइनल में भारतीय पुरुष हॉकी टीम का मुकाबला नीदरलैंड्स से हुआ था। फाइनल में मेजर ध्यानचंद ने हैट्रिक लगाते हुए पूरे टूर्नामेंट में कुल 14 गोल किए।

लॉस एंजिल्स 1932: भारतीय हॉकी पुरुष टीम, गोल्ड मेडल
आजादी से पहले भारतीय हॉकी टीम का ओलंपिक खेलों में काफी दबदबा था। वर्ष 1932 के लॉस एंजिल्स ओलंपिक में भी भारतीय पुरुष हॉकी टीम ने गोल्ड मेडल जीता। इस ओलंपिक में भारतीय पुरुष हॉकी टीम का फाइनल में मुकाबला जापान से था। फाइनल में भारत ने जापान को 11-1 से हराकर बड़ी जीत हासिल की और गोल्ड मेडल अपने नाम किया। इस मुकाबले में मेजर ध्यानचंद के अलावा रूप सिंह ने भी बेहतरीन प्रदर्शन किया था।

भारतीय हॉकी पुरुष टीम, स्वर्ण पदक - बर्लिन 1936
भारतीय पुरुष हॉकी टीम ने वर्ष 1936 के बर्लिन ओलंपिक में भी बेहतरीन प्रदर्शन करते हुए गोल्ड मेडल जीता था। वहीं 1938 बर्लिन ओलंपिक में भी भारतीय हॉकी टीम ने एक और गोल्ड मेडल अपने नाम किया।

यह भी पढ़ें— Tokyo olympics 2020: 113 मेडल के साथ अमरीका नंबर 1 पर, जानिए टॉप 10 में कौन से देश हुए शामिल

olympic2.png

75th independence day 2021

आजादी के बाद पहला मेडल
आजादी के बाद भारत ने पहला ओलंपिक मेडल हॉकी में ही जीता था। भारतीय हॉकी पुरुष टीम ने लंदन 1948 ओलंपिक में गोल्ड मेडल जीता था। इसके बाद हेलसिंकी 1952 ओलंपिक में भी भारतीय पुरुष हॉकी टीम ने गोल्ड मेडल अपने नाम किया।

आजादी के बाद रेसलिंग में केडी जाधव ने जीता पहला व्यक्तिगत मेडल
हेलसिंकी 1952 ओलंपिक में भारतीय हॉकी टीम के अलावा रेसलिंग में भी भारत को मेडल मिला था। भारतीय पहलवान खशाबा दादासाहेब जाधव पुरुषों की फ्रीस्टाइल बैंटमवेट श्रेणी में कांस्य पदक के साथ भारत के पहले व्यक्तिगत ओलंपिक पदक विजेता बने।

भारतीय हॉकी पुरुष टीम, स्वर्ण पदक - मेलबर्न 1956

इस ओलंपिक का गोल्ड मेडल भारतीय हॉकी टीम के लिए गेम्स का लगातार छठा गोल्ड साबित हुआ। शानदार बात तो यह थी कि इस पूरी प्रतियोगिता में भारत ने एक भी प्रतिद्वंदी को एक भी गोल मारने का मौका नहीं दिया। फाइनल मुकाबला भारत और पाकिस्तान के बीच रहा जहां भारत ने उन्हें 1-0 से पटकनी देकर ओलंपिक गेम्स को अपने नाम किया। फाइनल में टीम के कप्तान बलबीर सिंह सीनियर हाथ में फ्रेक्चर होने के बाद भी खेले।

भारतीय हॉकी पुरुष टीम ने इन ओलंपिक में भी जीते मेडल
आजादी के बाद भी भारतीय पुरुष हॉकी टीम ने कई ओलंपिक में मेडल जीते। 1960 रोम ओलंपिक में भारतीय पुरुष हॉकी टीम ने सिल्वर मेडल जीता। वहीं टोक्यो 1964 ओलंपिक में गोल्ड मेडल जीता। मैक्सिको सिटी 1968 के ओलंपिक में टीम ने कांस्य पदक अपने नाम किया। म्यूनिख 1972 ओलंपिक में भी टीम को कांस्य पदक मिला। इसके बाद मास्को 1980 ओलंपिक में गोल्ड मेडल अपने नाम किया।

अटलांटा ओलंपिक 1996 में लिएंडर पेस ने दिलाया मेडल
1996 अटलांटा ओलंपिक तक भारत को मेडल जीते हुए 4 सीज़न यानि 16 साल हो चुके थे। 1996 अटलांटा ओलंपिक में टेनिस में लिएंडर पेस ने भारत को ब्रॉन्ज़ मेडल जितवाया। पेस ने कांस्य पदक के मैच में फर्नांडो मेलिगानी को हराया था।

ओलंपिक मेडल जीतने वाली पहली भारतीय महिला
2000 सिडनी ओलंपिक में कर्णम मल्लेश्वरी ने वेटलिफ्टिंग खेल के 54 किग्रा वर्ग में ब्रॉन्ज़ मेडल जीता और ओलंपिक मेडल जीतने वाली पहली भारतीय महिला बनीं। इस खिलाड़ी नो स्नैच वर्ग में 110 किग्रा और क्लीन एंड जर्क में 130 किग्रा भार उठाया था। उन्होंने कुल 240 किग्रा उठाकर कांस्य पदक अपने नाम किया।

यह भी पढ़ें— Tokyo Olympics 2020: टेस्ट मैच के बीच टीम इंडिया ने मनाया नीरज चोपड़ा के ओलंपिक गोल्‍ड का जश्‍न

शूटिंग में पहला मेडल एथेंस 2004 ओलंपिक में
एथेंस ओलंपिक 2004 में राज्यवर्धन सिंह राठौड़ ने शूटिंग में सिल्वर मेडल जीता और ओलंपिक में मेडल लाने वाले पहले भारतीय शूटर बने। इसके बाद बीजिंग 2008 ओलंपिक में अभिनव बिंद्रा ने मेंस 10 मीटर एयर राइफल में स्वर्ण पदक जीता।

बीजिंग ओलंपिक 2008
बिजिंग ओलंपिक 2008 में भारत ने शूटिंग के अलावा बॉक्सिंग में भी मेडल जीता।भारतीय मुक्केबाज विजेंदर सिंह ने यह मेडल जीता था। इसके अलावा पहलवान सुशील कुमार ने पुरुषों की 66 किग्रा कुश्ती में ब्रॉन्ज मेडल जीता। सुशील कुमार ने रेपेचेज राउंड में कांस्य पदक जीता।

लंदन ओलंपिक 2012
लंदन ओलंपिक 2012 में भारत ने अच्छा प्रदर्शन किया था। इसमें गगन नारंग ने मेंस 10 मीटर एयर राइफल शूटिंग में ब्रॉन्ज मेडल जीता था। इसके अलावा कुश्ती में सुशील कुमार ने 66 किग्रा भार वर्ग में रजत पदक अपने नाम किया। इसके अलावा विजय कुमार ने मेंस 25 मीटर रैपिड पिस्टल शूटिंग में रजत पदक जीता। महिला बॉक्सर मैरी कॉम ने लंदन ओलंपिक 2012 में महिला फ्लाईवेट वर्ग में कांस्य पदक जीतकर अपना नाम इतिहास में दर्ज करवा लिया। कुश्ती में भारत ने इस ओलंपिक में एक और मेडल अपने नाम किया। रेसलर योगेश्वर दत्त ने पुरुषों के 60 किग्रा वर्ग में कांस्य पदक अपने नाम किया। इसके अलावा वूमेंस सिंगल्स बैडमिंटन में साइना नेहवाल ने कांस्य पदक जीता था।

रियो ओलंपिक 2016
रियो ओलंपिक 2016 में बैडमिंटन खिलाड़ी पीवी सिंधु ने वूमेंस सिंगल्स बैडमिंटन में सिल्वर मेडल जीता था। वहीं कुश्ती में भारतीय महिला पहलवान साक्षी मलिक ने 58 किग्रा रेसलिंग में कांस्य पदक जीता।

टोक्यो ओलंपिक 2020
हाल ही आयोजित हुए टोक्यो ओलंपिक में भारत के खिलाड़ियों ने अपना सर्वश्रेरूष्ठ प्रदर्शन करते हुए 7 पदक जीते। महिला वेटिलिफ्टर मीराबाई चानू ने 49 किग्रा वेटलिफ्टिंग में रजत पदक जीता। महिला बॉक्सर लवलीना बोरगोहेन ने कांस्य पदक अपने नाम किया। बैडमिंटन में पीवी सिंधु ने कांस्य पदक जीता। कुश्ती में रवि कुमार दहिया ने सिल्वर मेडल और बजरंग पूनिया ने ब्रॉन्ज मेडल अपने नाम किया। इसके अलावा भारतीय पुरुष हॉकी टीम ने कांस्य पदक जीता। मेंस जेवलिन थ्रो में नीरज चोपड़ा ने गोल्ड मेडल जीतकर इतिहास रच दिया।



Source Independence Day 2021: ओलंपिक्स में भारत ने आज़ादी से पहले भी जीते हैं मेडल, जानिए 1947 से पहले और बाद की विजय गाथा
https://ift.tt/3AHVL20

Post a Comment

0 Comments