ads

Independence day 2021: ओलंपिक में बेहतरीन प्रदर्शन के बाद इस वर्ष बढ़ गई तिरंगे की मांग, कीमतों में भी हुई वृद्धि

Independence day 2021: टोक्यो ओलंपिक 2020 में भारतीय खिलाड़ियों ने बेहतरीन प्रदर्शन कर देश का गौरव बढ़ाया है। वहीं रिपोर्ट के अनुसार,ओलंपिक में भारतीय खिलाड़ियों के शानदार प्रदर्शन के बाद राष्ट्रीय ध्वज की मांग दोगुनी हो गई है और दाम भी बढ़ गए हैं। एबीपी न्यूज के अनुसार, स्वतंत्रता दिवस के मौके पर इस बार लाल किले के साथ घरों और इमारतों पर भी तिरंगे की संख्या बढ़ने की उम्मीद है। रिपोर्ट में बताया जा रहा है कि राष्ट्रीय ध्वज की मांग को पूरा करने के लिए दक्षिण कोलकाता कारखानों में दिन रात काम हो रहा है। वहीं इस बार छोटे झंडों के ऑर्डर कम हैं। ऐसा स्कूलों के बंद होने की वजह से है।

16 अगस्त को 'खेला होबे दिवस'
एबीपी की रिपोर्ट के अनुसार, देश में सिले हुए झंडे सबसे ज्यादा बंगाल में ही बनते हैं और बड़ा बाजार से सप्लाई होते हैं। वहीं इस वर्ष बंगाल में 16 अगस्त से खेला होबे दिवस होगा। इसकी वजह से भी तिरंगे के काफी ऑर्डर दिए गए हैं। वहीं इसके अलावा भारत की आजादी के 75वें वर्ष की वजह से भी राष्ट्रीय ध्वज की डिमांड में काफी वृद्धि हुई है। रिपोर्ट के अनुसार, बड़ा बाजार के एक विक्रेता का कहना है कि इस वर्ष राष्ट्रीय ध्वज की बिक्री बढ़ गई है, क्योंकि देश में स्वतंत्रता का 75वां वर्ष मनाया जा रहा है और देश ने ओलंपिक में भी स्वर्ण पदक जीता है।

यह भी पढ़ें— Independence Day 2021: स्वतंत्रता दिवस के कार्यक्रम में शिरकत करेंगे ओलंपिक खिलाड़ी, अगले चार दिन तक रहेंगे राष्ट्रपति और पीएम के साथ

tricolor2.png

राजनीतिक पार्टियों ने भी दिए भरपूर ऑर्डर
रिपोर्ट के अनुसार, बंगाल के एक विक्रेता ने बताया कि इस बार राष्ट्रीय ध्वज की बिक्री बढ़ने के कारण आजादी की 75वीं वर्षगांठ के अलावा 16 अगस्त को होने वाला खेला होबे दिवस भी है। विक्रेमा का कहना है कि राजनीतिक पार्टियां सीपीआईएम, कांग्रेस, बीजेपी, टीएमसी हर कोई झंडे खरीद रहा है। ऐसे में इस बार इनकी बिक्री बढ़ गई है। वहीं पिछले वर्ष लॉकडाउन की वजह से झंडों की बिक्री नहीं हो पाई थी, लेकिन इस बार लॉकडाउन में छूट मिलने के कारण इनकी बिक्री बढ़ी है।

यह भी पढ़ें— Independence Day 2021: ओलंपिक्स में भारत ने आज़ादी से पहले भी जीते हैं मेडल, जानिए 1947 से पहले और बाद की विजय गाथा

महंगे हुए झंडे
वहीं इस वर्ष झंडों की कीमतों में भी बढ़ोतरी हुई है। रिपोर्ट के अनुसार, थोक में 4 फीट का झंडा लगभग 75 रुपए का हुआ करता था। अब इसकी कीमत लगभग 85 रुपए हो गई है। विक्रेताओं का कहना है कि झंडे की कीमतों में वृद्धि कच्चे माल की लागत बढ़ने की वजह से हुई है। रिपोर्ट के अनुसार, चार फुट के झंडे 10 रुपए और तीन फुट के झंडे 4 रुपए तक महंगे हो गए हैं। वहीं छोटे झंडों की बात करें तो उनकी कीमतों में भी 3 से 4 रुपए तक की वृद्धि हुई है।



Source Independence day 2021: ओलंपिक में बेहतरीन प्रदर्शन के बाद इस वर्ष बढ़ गई तिरंगे की मांग, कीमतों में भी हुई वृद्धि
https://ift.tt/2VVNQPd

Post a Comment

0 Comments