ads

Janmashtami 2021: इस साल वैष्णव व गृहस्थ एक ही दिन मनाएंगे श्रीकृष्ण जन्मोत्सव, जानें क्या हैं जन्माष्टमी मुहूर्त के नियम

हिंदू कैलेंडर में हर साल, श्रीकृष्ण जन्माष्टमी का पर्व भाद्रपद महीने में कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि यानि 8 वें दिन आता है। ऐसे में इस साल 2021 में भाद्रपद के कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि रविवार, 29 अगस्त की रात 11.25 मिनट से शुरू होकर सोमवार, 30 अगस्त को देर रात 1.59 मिनट तक रहेगी।

दोनों दिन रात में अष्टमी पड़ने से भक्तों के बीच में श्रीकृष्ण जन्माष्टमी की तिथि को लेकर असमंजस बना हुआ है। जहां कुछ लोग जन्माष्टमी की तिथि 29 अगस्त बता रहे हैं,वहीं अधिकांश इस बार जन्माष्टमी 30 अगस्त को मनाए जाने की बात कर रहे हैं।

Shree Krishna Janmashtami 2021: जन्माष्टमी पर इन मंत्रों का जाप होता है लाभकारी, पूरी होती हैं सभी सभी मनोकामनाएं

इस संबंध में पंडित एके शुक्ला का कहना है कि वर्षों बाद एक ऐसे योग का निर्माण हो रहा है, जिसके चलते इस बार वैष्णव व गृहस्थ एक ही दिन जन्मोत्सव Janmashtami मनायेंगे। पंडित शुक्ला के अनुसार दरअसल इस बार जहां करीब 100 से अधिक सालों बाद इस दिन जयंती योग का निर्माण हो रहा है। वहीं इसी योग में इस साल 30 अगस्त 2021 को श्रीकृष्ण जन्माष्टमी का पर्व मनाया जाएगा।

उनका कहना है कि दरअसल श्रीमद्भागवत पुराण के अनुसार भी भगवान श्रीकृष्ण का जन्म Janmashtami भाद्र कृष्ण अष्टमी तिथि, सोमवार रोहिणी नक्षत्र व वृषभ राशि में मध्य रात्रि में हुआ था। वैसा ही योग इस बार 30 अगस्त को पड़ने वाली जन्माष्टमी Gokul Ashtami पर बन रहा है। जब चंद्रमा वृषभ राशि और रोहिणी नक्षत्र में रहेगा। साथ ही इस बार जयंती योग और रोहिणी नक्षत्र का भी संयोग बन रहा है।

Must read- श्रीकृष्ण जन्माष्टमी 2021 के शुभ मुहूर्त और पूजा की सरल विधि

celebration of shree krishna janmashtami in mp

इस बार भाद्रपद के कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि रविवार रात 11.25 बजे से ही लग जाएगी जो कि सोमवार रात के 01.59 बजे तक रहेगी। 30 अगस्त को अष्टमी तिथि पर चंद्रमा वृषभ राशि में मौजूद रहेंगे, वहीं रोहिणी नक्षत्र भी मौजूद रहेगा।


श्रीकृष्ण जन्माष्टमी: मुहूर्त के नियम

पंडित शुक्ला के अनुसार जन्माष्टमी gokulashtami में दिन के मुहूर्त को लेकर भी कुछ खास नियम हैं, जिनके अनुसार-

: जन्माष्टमी Janmashtami व्रत उस समय पहले दिन किया जाता है जिस बार पहले ही दिन आधी रात को अष्टमी विद्यमान हो। जबकि दूसरे ही दिन आधी रात को ही अष्टमी व्याप्त होने पर जन्माष्टमी का व्रत दूसरे दिन किया जाता है।

: इसके अलावा अष्टमी gokulashtami के दोनों दिन की आधी रात को व्याप्त होने पर रोहिणी नक्षत्र का योग देखा जाता है,ऐसे में जिस एक अर्धरात्रि में रोहिणी नक्षत्र हो तो जन्माष्टमी व्रत उसी रात किया जाता है।

: वहीं अष्टमी Krishna jayanti आधी रात को यदि दोनों दिनों में विद्यमान हो और दोनों ही अर्धरात्रि (आधी रात) में रोहिणी नक्षत्र भी मौजूद रहे तो भी जन्माष्टमी व्रत दूसरे दिन किया जाता है।

Must read- श्रीकृष्ण जन्माष्टमी की व्रत विधि और नियम

Happy janmashtami-2019: बच्चों ने मचाया गजब का धमाल, कोई बना सुदामा, तो कोई नंदलाल

: आधी रात को अष्टमी Krishna Ashtami यदि दोनों दिन व्याप्त हो और दोनों ही अर्धरात्रि में रोहिणी नक्षत्र का योग न हो तो भी जन्माष्टमी व्रत दूसरे दिन ही किया जाता है।

: यदि दोनों दिन आधी रात को अष्टमी व्याप्त न हो तो भी जन्माष्टमी व्रत दूसरे ही दिन होगा।

जानकारों के अनुसार कृष्ण जन्माष्टमी Janmashtami पर इस बार जयंती योग के दुर्लभ संयोग के बीच 30 अगस्त को भक्त इस बार उपवास रखते हुए भगवान कृष्ण का आशीर्वाद लेने के लिए उनकी पूजा करेंगे। साथ ही, भक्त भगवान कृष्ण के जन्मोत्सव Krishna Jayanti को मनाने के लिए अपने घर के मंदिर को सजाएंगे। ज्योतिषीय गणना के मुताबिक भगवान कृष्ण की यह 5248वीं जयंती होगी।



Source Janmashtami 2021: इस साल वैष्णव व गृहस्थ एक ही दिन मनाएंगे श्रीकृष्ण जन्मोत्सव, जानें क्या हैं जन्माष्टमी मुहूर्त के नियम
https://ift.tt/3mCYi9S

Post a Comment

0 Comments