ads

Putrada Ekadashi 2021: जानें श्रावण पुत्रदा एकादशी व्रत 2021 का शुभ समय व पूजा विधि और नियम

हिंदू कैलेंडर में सावन का महीना त्यौहारों से भरा रहता है। ऐसे में जहां इस पूरे माह भगवान शिव की पूजा होती है। वहीं कई पर्व व त्यौहार भी इस समय आते हैं। ऐसा ही एक पर्व सावन के शुक्ल पक्ष की एकादशी को आता है, जिसके पुत्रदा एकादशी कहा जाता है। इस साल यानि 2021 में यह पर्व बुधवार, अगस्त 18 को आ रहा है।

माना जाता है कि यह व्रत संतान की समस्याओं के छुटकारे के लिए किया जाता है। जानकारों के अनुसार स्वस्थ लोग जो उपवास कर सकते हैं, उन्हें ये व्रत रखते हुए केवल फलाहार को इस दिन ग्रहण करना चाहिए। इस दिन विधि पूर्वक पूजन संपन्न होने के बाद एक निश्चित समय पर ही इसका पारण करना चाहिए।

Sawan month

पंडित सुनील शर्मा के अनुसार जिस किसी को बाधाओं के चलते संतान प्राप्ति नहीं हो रही हो या जिन्हें पुत्र प्राप्ति की कामना हो, ऐसे लोगों को पुत्रदा एकादशी का व्रत जरूर करना चाहिए। क्योंकि इस व्रत का फल इसके नाम के अनुसार ही है। यह व्रत रखने से भक्तों को संतान संबंधी मनोवांछित फल की प्राप्ति होती है।

श्रावण पुत्रदा एकादशी 2021 का पूजन मुहूर्त-
शुक्ल पक्ष की एकादशी तिथि शुरु: बुधवार 18 अगस्त 2021 : 03:20 AM से
शुक्ल पक्ष की एकादशी तिथि का समापन: गुरुवार,19 अगस्त 2021 : 01:05 AM तक

ऐसे में पुत्रदा एकादशी का यह व्रत इस साल 2021 में बुधवार,अगस्त 18 को और पारण 19 अगस्त को होगा।

पूजा विधि और नियम
पंडित शर्मा के अनुसार एकादशी का व्रत करने वाले को दशमी तिथि की रात्रि से ही व्रत के नियमों का पूर्ण रूप से पालन करना चाहिए। इसके तहत दशमी को भोजन सूर्यास्त के बाद नहीं करना चाहिए और रात में भगवान विष्णु का ध्यान करते हुए निद्रा में जाना चाहिए।

Must Read- Ekadashi Vrat 2021 : साल 2021 में एकादशी व्रत की तिथि लिस्ट

ekadashi vrat list 2021
IMAGE CREDIT: patrika

: एकादशी की सुबह ब्रह्ममुहूर्त में उठकर नित्य कर्म के बाद स्नान करके साफ धुले हुए वस्त्र पहनकर भगवान श्रीहरि विष्‍णु का ध्यान करना चाहिए।

: वहीं यदि गंगाजल आपके पास है तो पानी में गंगा जल डालकर नहाना चाहिए।

: स्नान व साफ वस्त्र पहनने के बाद भगवान विष्णु की मूर्ति या चित्र के सामने दीपक जलाकर व्रत का संकल्प लेना चाहिए, फिर कलश की स्थापना करनी चाहिए।

: फिर लाल वस्त्र से बांधकर कलश को पूजा करनी चाहिए।

: शुद्ध पूजा स्थान पर भगवान विष्णु की प्रतिमा रखने के बाद इस प्रतिमा को स्नानादि से शुद्ध करने के पश्चात नए वस्त्र पहनाने चाहिए।

: जिसके बाद धूप-दीप आदि से विधि पूर्वक भगवान विष्णु की पूजा और आरती करनी चाहिए, इस दौरान भगवान विष्णु को नैवेद्य और फलों का भोग लगाने के बाद प्रसाद बांटना चाहिए।

Must read- इस रक्षाबंधन इन्हें भी बांधे राखी

Raksha Bandhan
IMAGE CREDIT: NET

: इस समय भगवान विष्णु को अपनी क्षमता के मुताबिक फल-फूल, नारियल, पान, सुपारी, लौंग, बेर, आंवला आदि अर्पित करें।

: वहीं एकादशी की रात्रि में भगवान का भजन-कीर्तन करें।

: पूरे दिन निराहार रहने के बाद शाम के समय कथा आदि सुनने के पश्चात फलाहार करें।

: इसके अगले दिन ब्राह्मणों को भोजन कराने के बाद सामर्थ्य के अनुसार दान-दक्षिणा अवश्य दें। इसके बाद ही स्वयं भोजन करें।

धर्म के जानकारों के अनुसार दीपदान करने का भी इस दिन बहुत महत्व माना जाता है। इसके अलावा पुत्रदा एकादशी व्रत के पुण्य से मनुष्य तपस्वी, विद्वान, पुत्रवान और लक्ष्मीवान होने के साथ ही समस्त सुखों को भोगता है।



Source Putrada Ekadashi 2021: जानें श्रावण पुत्रदा एकादशी व्रत 2021 का शुभ समय व पूजा विधि और नियम
https://ift.tt/3yJ18gH

Post a Comment

0 Comments