ads

Chanakya Niti - घर में सुख शांति के लिए घर के मुखिया में होने चाहिए ये गुण

Chanakya Niti - आचार्य चाणक्य महान कूटनीतिज्ञ, अर्थशास्त्री और रणनीतिकार थे। इनके द्वारा रचित चाणक्य नीतिशास्त्र आज भी लोगों को प्रेरित करती है। इसमें जीवन को सुखमय और सफल बनाने के लिए कई सुझाव दिए गए हैं।

चाणक्य नीति शास्त्र में ज्ञान की कई ऐसी बातें बताई गई हैं, जिनसे व्यक्ति शासन करना सीख सकता है। नीति में आचार्य चाणक्य कहते हैं कि यदि किसी राज्य का राजा बलवान हो तो उसे और उसके राज्य को कोई नुकसान नहीं पहुंचा सकता। इसी तरह अगर घर का मुखिया मजबूत हो तो कोई भी व्यक्ति अपने परिवार के सदस्यों को परेशान नहीं कर सकता।

निर्णयकर्ता - घर के मुखिया को अहंकार में रहकर कोई निर्णय नहीं लेना चाहिए। आप घर के मुखिया हैं, यह आपका कर्तव्य है कि आप अपने परिवार के सदस्यों के लिए समझदारी से निर्णय लें। साथ ही यह भी सुनिश्चित करें कि आपका यह फैसला परिवार के हित में ही होगा।

फैसलों पर यकीन रखें - मुखिया को हमेशा अपने फैसलों पर अडिग रहना चाहिए. परिवार के जिन सदस्यों का मुखिया अपने निर्णयों पर अडिग रहता है, वे भी अनुशासन में रहने के आदी हो जाते हैं। इसलिए घर के मुखिया को अपने फैसलों पर यकीन होना चाहिए।

ज्यादा खर्च न करें - अगर परिवार का मुखिया महंगा होगा तो बाकी सदस्य भी ज्यादा खर्च करेंगे. इसलिए मुखिया को कम खर्च करना चाहिए। परिवार के मुखिया को इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि परिवार के सदस्य उसके आचरण का पालन करें।

धन की बचत - घर में जो भी धन आए उसे घर के मुखिया के हाथ में दे देना चाहिए. अगर घर का मुखिया बचत के प्रति सचेत है तो सारा पैसा व्यवस्थित तरीके से रखा जाता है ताकि जरूरत पड़ने पर उस पैसे का एक हिस्सा भी लिया जा सके। कहा जाता है कि घर के मुखिया के हाथ में दिया गया धन धन संचय के लिए उपयोगी होता है।

विश्वास - आचार्य चाणक्य ने अपने जीवन और व्यवहार में इस गुण को नापसंद किया है। चाणक्य कहते हैं कि घर के मुखिया का कान कच्चा नहीं होना चाहिए। ऐसा जातक अपनों से दूर हो जाता है और जीवन में धोखा खा जाता है। अगर आपको किसी से अपने घर के बारे में कुछ सुनने को मिलता है तो घर आकर उसकी पुष्टि जरूर करें।



Source Chanakya Niti - घर में सुख शांति के लिए घर के मुखिया में होने चाहिए ये गुण
https://ift.tt/3AkkwS3

Post a Comment

0 Comments