ads

Astrology: 10 दिसंबर तक बना रहेगा बुधादित्य योग, जानें क्या होगा असर

नवंबर 2021 के शुरुआती दिनों में ही बुध ग्रह का गोचर तुला राशि में हुआ और यहां मंगल व सूर्य की पहले से मौजूदगी के बीच सूर्य व बुध ने बुधादित्य योग का निर्माण किया। ऐसे में अब एक बार फिर 16 नवंबर को सूर्य के वृश्चिक राशि में प्रवेश करने के बाद 21 नवंबर 2021 को बुध के वृश्चिक राशि में जाने के साथ ही दोनों ग्रहों ने बुधादित्य योग का निर्माण कर दिया।

दरअसल ज्योतिष के जानकारों के अनुसार वृश्चिक राशि में एक बार फिर 21 नवंबर से इन दोनों ग्रहों का बुधादित्य योग बन चुका है, जो 10 दिसंबर 2021 को सुबह 5:53 बजे तक बना रहेगा। जिसके बाद बुध धनु राशि में प्रवेश कर जाएंगे। जबकि सूर्य वृश्चिक में ही 16 दिसंबर तक रहेंगे। यानि 10 दिसंबर की सुबह ही बुध द्वारा परिवर्तन किए जाने से इस दौरान वृश्चिक राशि में 18 दिन का बुधादित्य योग बना रहेगा। वहीं इस दौरान केतु भी इनके साथ मौजूद रहेंगे।

rashi parivartan

सूर्य-बुध-केतु की इस युति का मिलाजुला फल मिलेगा। इस दौरान सरकारी क्षेत्रों में काम करने वाले लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ सकता है।

ज्योतिष के जानकारों के अनुसार इस समय केतु बुध के साथ सहायक स्थिति में होने के चलते इस समय वृश्चिक, सिंह, कुंभ, मीन राशि वालों के भूमि-भवन के रुके काम होने के साथ ही कई अन्य काम भी बनेंगे। जबकि मेष, वृषभ, मिथुन राशि के लोगों को अधिक लाभ नहीं होगा, वहीं कन्या राशि वालों को भी इस समय सावधान रहना होगा।

इस दौरान व्यापारिक क्षेत्रों में उतार-चढ़ाव रहेगा। वहीं बुधादित्य योग के चलते कृषि क्षेत्र में उठाव की स्थिति आएगी, जबकि जानकारों की मानें तो 29 दिसंबर 2021 से बुध के मकर में आने से कृषि क्षेत्र में यानि फसलों के उत्पादन में कमी आने की संभावना है।

Must Read- गजकेसरी योग : गुरु के प्रभाव से बना ये योग,जानें कैसे प्रभावित करता है आपकी कुंडली

gajkesri_yoga_in_hindi.png

ऐसे समझे बुध की मकर में स्थिति:
बुध सामान्यत: हर राशि में करीब 29 दिन तक ही रहते है, लेकिन इस बार बुध 29 दिसंबर 2021 से 05 मार्च 2022 तक मकर में ही रहेंगे। यहां बुध जनवरी के दूसरे सप्ताह में वक्री होने के बाद इसी स्थिति में फरवरी के पहले सप्ताह तक रहेगा, फिर मार्गी होकर 5 मार्च तक मकर में ही रहेगा।ऐसे में एक दशक से अधिक समय बाद बुध मकर राशि में 67 दिन तक रहेगा।

जिसके चलते इसके बाद वृश्चिक राशि में एक साल बाद ही बुधादित्य योग का निर्माण होगा। वहीं ज्योतिष के जानकार पंडित एके शुक्ला के अनुसार वैसे हर महीने में बुधादित्य योग की स्थिति बनती है, पर बुध के वक्री होने के कारण इस योग की अवधि कम ज्यादा होती रहती है।

वहीं जानकारों के अनुसार मकर में बुध के लंबे समय तक रहने से और अभी सूर्य के साथ मंगल के स्वामित्व में बुध के रहने से दक्षिण-पश्चिमी क्षेत्रों में प्राकृतिक आपदाएं आने की संभावनाएं हैं।

वहीं ज्योतिष के जानकारों के अनुसार नए साल 2022 में फरवरी ऐसा महीना रहेगा, जिसमें बुधादित्य योग इसलिए नहीं बनेगा इसका कारण यह है कि बुध इस दौरान जहां मकर में ही रहेंगे, वहीं सूर्य 16 फरवरी को कुंभ में प्रवेश कर जाएंगे।

Must Read- November 2021 rashi parivartan : नवंबर 2021 में ग्रहों का गोचर और इनका असर

Rashi Parivartan of November 2021

इन राशियों के लिए बुधादित्य योग रहेगा खास:

सिंह राशि:
सिंह राशि के जातकों के लिए बुधादित्य योग शुभ संयोग का निर्माण कर रहा है। इस दौरान इस राशि के जातकों को नौकरी और व्यापार के क्षेत्र में फायदा होने की उम्मीद है। आय में वृद्धि होने अथवा नौकरी में पदोन्नति की संभावना के बीच परिजनों सहयोग मिलेगा।

वृश्चिक राशि :
बुधादित्य योग की शुभता के चलते वृश्चिक राशि के जातकों के संचार कौशल में वृद्धि होगी। वहीं इस दौरान आपके सामाजिक मान और प्रतिष्ठा में वृद्धि होगी। इस समय व्यापारिक सौदे में सफलता मिलने की संभावना के बीच कार्य क्षेत्र में नए सहयोगी बनेंगे।

कुंभ राशि :
कुंभ राशि के जातकों के लिए ये बुधादित्य योग कोई शुभ समाचार लाता दिख रहा है। इस दौरान आपको मेहनत का फल मिलने के साथ ही कार्यस्थल पर आपके मान सम्मान में वृद्धि होगी। आर्थिक लाभ के अवसरों के निर्माण के बीच यात्रा करनी पड़ सकती है।

मीन राशि :
बुधादित्य योग के निर्माण से मीन राशि के जातकों को हर क्षेत्र में सफलता के संयोग बन रहे हैं। ऐसे में इस समय आपको नौकरी,धन निवेश, व्यापार सहित सभी क्षेत्रों में सफलता प्राप्त होती दिख रही है। इस दौरान परिवार और वैवाहिक संबंधों में मधुरता आने के साथ ही आपको सभी का सहयोग भी मिलेगा।



Source Astrology: 10 दिसंबर तक बना रहेगा बुधादित्य योग, जानें क्या होगा असर
https://ift.tt/3DNCxtu

Post a Comment

0 Comments